देश में बेटियों और गर्भ में उनकी हत्या के बारे में अक्सर खबरे आती रहती है लेकिन कुछ जगह पर बेटी के जन्म पर न केवल उत्सव मनाया जाता है बल्कि खास आयोजन भी किये जाते है. ऐसा ही कुछ हुआ गुजरात के सूरत जिले के दिहेन गांव में.

यहाँ रहने वाले व्यक्ति ने रेड कारपेट बिछाकर अपनी बच्ची का स्वागत किया. इस सकारात्मक पहल के पीछे सूरत के गवर्नमेंट हॉस्पिटल में कार्यरत वार्ड बॉय राकेश उर्फ गिरीश पटेल का दिमाग है.

पिछले दिनों उनकी पत्नी धर्मिष्ठा ने हॉस्पिटल में एक बेटी को जन्म दिया. बेटी के जन्म के बाद से ही परिवार में खुशियां मनाई जा रही थी लेकिन राकेश अपनी बिटियाँ का स्वागत अलग अंदाज में करना चाहता था.

इसके लिए उसने अपने दोस्त से गाड़ी उधार मांगकर उसे फूलों से सजाया. उसी गाड़ी में उन्होंने सूरत से अपने गांव तक का सफर तय किया.

rakesh with daughter
अपनी बेटी के साथ राकेश | चित्र साभार : नवभारत टाइम्स 

अपनी नवजात बेटी हिया के स्वागत के लिए उन्होंने अपने घर के बाहर तकरीबन 200 फीट लंबी रंगोली बनाई. उन्होंने पूरे मोहल्ले में आम के पत्तों का तोरण लगाया और ढोल बजाने वालों को भी आमंत्रित किया.

गांव में आने के बाद ढोल-नगाड़ों से नवजात बच्ची और माँ का स्वागत किया. राकेश के परिचित और रिश्तेदार गाड़ी के आगे नाच कर जश्न मना रहे थे.

गांव में शादी-ब्याह जैसा माहौल लग रहा था. राकेश ने अपने घर पर रेड कारपेट बिछाया और स्वागत के लिए फूल वर्षा भी की गयी. भावुक राकेश ने अपनी नवजात बच्ची को हाथ में लेकर घर में प्रवेश किया.

टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए राकेश ने कहा कि हिया उनकी पहली संतान है और वह भी बेटी. बेटियां लक्ष्मी का स्वरूप होती हैं, इसलिए उनके आगमन पर शानदार जश्न मनाना चाहिए. बेटी होने की अपनी खुशी वह सारे समाज के सामने व्यक्त करना चाहते थे.

Comments

comments