देश में जब भी स्वच्छता की बात आती है तो लोगो की जुबान पर उनके आसपास पड़ा हुआ कचरा नजर आता है. दुनिया के 20 सबसे ज्यादा प्रदूषित शहरों में 15 भारत के है लेकिन स्वच्छ भारत अभियान के बाद लोगो के व्यवहार के साथ ही शहरों की स्थिति में सुधार हुआ है. लोगो में प्लास्टिक और गन्दगी के बारे में जागरूकता बढ़ी है. पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय हर वर्ष स्वच्छता सर्वेक्षण करवाता है और जिलों की लिस्ट में बाजी मारी है अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले ने. tawang cleanest district of north east

नॉर्थ-ईस्ट में स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण सर्वे में अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले ने इस साल यह ख‍िताब जीता है. यह सर्वे पूरे नॉर्थ-ईस्ट में किया गया था. इसमें 7 राज्य आते हैं. आपको बता दे कि, यह सर्वे नॉर्थ ईस्ट के 698 जिलों पर किया गया था.

tawang 3
तवांग की प्रतीकात्मक तस्वीर  | Photo Source: Thrillophobia

पर्यटकों और खासकर एडवेंचर के शौक़ीन लोगो के बीच अरुणाचल का तवांग काफी प्रसिद्द है. इस जिले में बीते 35 वर्षों से तंबाकू की बिक्री पर प्रतिबन्ध है. पर्यावरण को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचाने वाले पॉलिथीन का भी यहाँ पर इस्तेमाल नहीं होता. tawang cleanest district of north east

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि 2018 में ‘हिमालयन क्लीनअप’ अभियान के तहत नार्थ ईस्ट के 89 शहरों को एक ही दिन में प्लास्टिक फ्री किया गया था. एक-एक पॉलिथीन को उठाया गया था और लोगों को संदेश दिया गया कि भविष्य में वो कचरा ज्यादा ना फैलाएं, जिसका परिणाम तवांग ने दिया.

तवांग की सफलता पर अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री पेमा खांडू भी खुश है. उनका कहना है कि सफलता का सारा श्रेय तवांग के जिला कलेक्टर और जनता को जाता है. देश के एवं राज्य के बाकी जिले के अधिकारियों को भी स्वच्छता को लेकर सोचना चाहिए और तवांग के नक्शे कदम पर आगे बढना चाहिए.

tawang 4
तवांग की प्रतीकात्मक तस्वीर | Source: Anshuman Travels

तवांग में लोग पर्यटन के लिए पहुंचते हैं. देशी के साथ विदेशी सैलानी भी बड़ी संख्‍या में आते हैं लेकिन स्थानीय लोगो की जागरूकता के चलते पुरे जिले में स्वच्छता देखते ही बनती है. tawang cleanest district of north east

बी पॉजिटिव इंडिया, तवांग की जनता और जिला कलेक्टर के स्वच्छता की दिशा में किये गए प्रयासों की सराहना करता है. उम्मीद करता है कि तवांग से प्रेरणा लेकर देश के अन्य शहर भी जल्द ही स्वच्छ होंगे.

Comments

comments