मेहनत इतनी ख़ामोशी से करो कि सफलता शोर मचा दे !

दौड़भाग भरी ज़िन्दगी में लोगो के पास खुद के लिए समय नहीं है. जिसके चलते अधिकांश लोग तनाव में चले जाते है. एक रिपोर्ट के अनुसार भारत में तनाव के सबसे ज्यादा मामले सामने आते है और मोटिवेशन की भारी कमी है. नकारात्मक वातावरण और TRP की अंधी दौड़ में न्यूज़ एवं प्रिंट मीडिया से पॉजिटिव खबरों की उम्मीद करना बेमानी हो जाता है.

फेक न्यूज़ और कॉपी-पेस्ट के दौर में सोशल मीडिया के जरिये एक 23 साल का युवा लोगो को मोटिवेशन देने का काम कर रहा है. टेलीग्राम पर अपने चैनल के जरिये पॉजिटिव कोट्स, शॉर्ट स्टोरीज और फोटोज के जरिये तनाव को कम करने वाले युवा का नाम है सुनील यादव (Sunil Yadav).

Sunil Yadav awards
कई अवार्ड्स मिले है सुनील यादव को

राजस्थान के अलवर जिले के बूढ़ी बावल गांव से आने वाले सुनील यादव टेलीग्राम (Telegram) पर SS मोटिवेशन (SS Motivation) के नाम से चैनल चलाते है. उनके चैनल को 2 लाख 75 हज़ार से ज्यादा लोगो ने सब्सक्राइब किया है जिनमे आईएएस और आईपीएस अधिकारी तक शामिल है. वो चैनल के जरिये मोटिवेशनल कोट्स (Motivational Quotes) के साथ ही पिक्चर एवं शॉर्ट स्टोरीज पब्लिश करते है. उनकी पोस्ट्स को महीने में बीस लाख से ज्यादा बार देखा जाता है और हज़ारो की संख्या में शेयर की जाती है.

आपको जानकर आश्चर्य होगा कि उनका चैनल टेलीग्राम पर सबसे बड़ा मोटिवेशनल चैनल है लेकिन उन्हें शुरू के दो महीने में केवल 10 हज़ार के आसपास ही सब्सक्राइबर थे लेकिन कड़ी मेहनत के बल पर आज उनका चैनल अपनी केटेगरी में नंबर एक है.

SS Motivation channel
सुनील यादव का टेलीग्राम चैनल SS मोटिवेशन

बी पॉजिटिव इंडिया से बातचीत में सुनील यादव बताते है कि SS मोटिवेशन चैनल के जरिये लोगो को तनाव और डिप्रेशन से निकलना मेरा मकसद है. हर किसी को अपने जीवन में डिप्रेसन का दौर देखने को मिलता है और मैं इस तरह के दौर से गुजरा हूँ. ऐसे समय में एक पॉजिटिव लाइन या पिक्चर हमारे सोचने का नजरिया बदल देती है.

मेरा जन्म अलवर जिले के छोटे से गांव में हुआ और पूरा परिवार खेती-बाड़ी से जुड़ा हुआ है. मैंने शुरुआती पढाई गांव से ही की और इसके बाद कोचिंग के लिए कोटा का रुख किया. कोटा में नए माहौल और अच्छा करने के दबाव में डिप्रेशन में चला गया लेकिन दोस्तों की मदद से मुझे उस दौर से बाहर निकलने में मदद मिली.

Sunil Yadav with friends
मुसीबत के समय सुनील यादव के दोस्तों ने हर संभव मदद की

सोशल मीडिया और ब्लॉगिंग के क्षेत्र में 2015 से जुड़ा हुआ हूँ और अब तक छह से सात बार स्टार्ट-अप में फ़ैल हो चूका हूँ लेकिन कभी भी निराश नहीं हुआ. जब मेरा स्टार्ट-अप मुसीबत के दौर से गुज़र रहा था तब दोस्त क्रांति और भाई निकेश ने हर सम्भव मदद की.

इसी बीच पिछले वर्ष मेसेंजर एप टेलीग्राम पर SS मोटिवेशन के नाम से चैनल बनाया. शुरुआती दो महीने काफी मुश्किल रहे लेकिन लोगो को मोटीवेट करने के लिए लगातार प्रेरणादायी कंटेंट पोस्ट करता रहा. इस बीच कई आईएएस-आईपीएस अधिकारी मेरे चैनल से जुड़ गए. ऐसे यूजर्स जुड़ने के कारण मेरा हौसला बढ़ता गया. आज मेरे चैनल को औसतन आठ-नौ लाख लोग देखते हैं. पिछले महीने तो यह संख्या 12 लाख पहुंच गई थी. मेरी एक-एक पोस्ट को हजारों लोग शेयर करते हैं.

आगे की योजनाओं के बारे में बताते हुए सुनील यादव कहते है कि SS मोटिवेशन चैनल को नंबर एक बनाये रखना सबसे बड़ा लक्ष्य है. इसी के साथ वेबसाइट और मोबाइल एप्लीकेशन पर भी काम चल रहा है. टेलीग्राम के साथ ही फेसबुक, इंस्टाग्राम और अन्य सोशल मीडिया पर भी उपस्थिति दर्ज करवानी है. मुख्य काम कंटेंट पर भी काम कर रहे है.

sunil yadav with grand father
अपने दादाजी के साथ सुनील यादव

31 जनवरी 1997 को जन्मे सुनील यादव बताते है कि मेरी सफलता में मेरे पिता शीशराम यादव और खासकर मेरे दादाजी रामकुँवार यादव का बहुत योगदान रहा. इसके साथ पुरे सफर में बहन सपना और दोस्त क्रांति एवं उज्ज्वल ने हरसंभव मदद की. जीवन में जो भी सफलता मिली हैं इनका ऋणी रहूँगा.

अगर आप भी सुनील यादव के चैनल SS Motivation को सब्सक्राइब करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करे !

बी पॉजिटिव इंडिया, सुनील यादव और ‘SS मोटिवेशन‘ की टीम के कार्य की सराहना करता है. उम्मीद करता है कि आप से प्रेरणा लेकर लोगो के जीवन में बदलाव आएगा.

(ये स्टोरी बी पॉजिटिव इंडिया के साथी राहिल मोहम्मद ने की है)

Comments

comments