कहते है अगर हौसले बुलंद हो तो आप अपने क्षेत्र में बुलंदियों के झंडे गाड़ सकते है और अगर आपने पूरी मेहनत और ईमानदारी से काम किया है तो उसका फल आपके काम में दिखता है । किसी भी व्यापार में ग्राहकों से जुड़ाव और उनकी उम्मीदों पर खरा उतरना ही सफलता का मानक  होता है ।

विश्वास नहीं होता है तो कभी दीपावली से दो-तीन दिन पहले एवेन्यू रोड पर स्थित एक स्टेशनरी की दुकान पर जाइये । वहां पर लाइन में लगे सैकड़ों लोगो से पूछिए कि आप रात के  12 बजे से ही लाइन में क्यों खड़े हो ? हर जुबान से यही जवाब आएगा कि हमें जसराज जी के हाथ से ही एकाउंट्स की बुक्स या फाइल्स लेनी है ।

यह भी पढ़े : सरकारी नौकरी छोड़कर कैंसर रोगियों का निशुल्क इलाज करने वाले शख्स की कहानी

किसी भी आदमी की सफलता का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण यही होता है कि आप को लोग अपने नाम से ज्यादा आपके काम से जानते है । जसराज जी जैन ने भी अपनी मेहनत से आज वो मुकाम हासिल किया है जिसके बारे में लोग सिर्फ सपने देखते है लेकिन इस सफलता के पीछे उनके अथाह संघर्ष और मेहनत को श्रेय दिया जाता है ।

 

राजस्थान के पाली जिले के छोटे से गांव में पैदा हुए जसराज जी ने गांव में रोजगार के साधनों की कमी देखते हुए बेंगलुरु ( तत्कालीन बैंगलोर) में व्यापार करने की ठानी  । यहाँ पर पहले से ही मारवाड़ी कम्युनिटी के कई परिवार  व्यापार के क्षेत्र में अपना नाम कमा चुके थे ।

यह भी पढ़े :  किसान परिवार से निकल कर राजस्थान बोर्ड के चैयरमेन बनने तक का सफर

जसराज जी ने SHA JASRAJ JAIN  के नाम से एवेन्यू रोड पर एक छोटी सी स्टेशनरी की दुकान खोल ली । कम निवेश में छोटी सी दुकान होने के बाद भी जसराज जी ने स्टेशनरी के फील्ड में धीरे-धीरे अपने पांव ज़माने शुरू कर दिए ।

उच्च गुणवत्ता और अपनी व्यापारिक दूरदृष्टि के दम पर जसराज जी ने स्टेशनरी के व्यापार में हमेशा आदर्शों को सर्वोपरि रखा है और अपने ग्राहकों से हमेशा जुड़ाव बनाये रखा है । यह ग्राहकों से जुड़ाव और व्यापरिक समझ ने जसराज जी को धीरे-धीरे बेंगलुरु मार्किट में स्थापित कर दिया ।

यह भी पढ़े : राजस्थान के छोटे से गांव से निकले IIT टॉपर की कहानी

आज जसराज जी की दुकान की लोकप्रियता का यह आलम है कि लोग जसराज जी के हाथों से एकाउंट्स बुक लेने के लिए रात भर लाइन में लगे रहने में भी नहीं हिचकिचाते है । यह जसराज जी का अपने ग्राहकों से जुड़ाव है  कि अधिक उम्र होने कि बावजूद वो अपने सभी ग्राहकों से व्यक्तिगत रूप से मिलकर उन्हें दीपावली कि शुभकामना के  साथ ही उनके व्यापार वृद्धि की कामना करते है ।

आज जसराज जी के परिवार की अगली पीढ़ी उनका व्यापार देख रही है और अपने  व्यापार को आगे बढ़ा रही है लेकिन आज भी जसराज  परिवार का ग्राहकों से जुड़ाव और गुणवत्ता पूर्वक स्टेशनरी देने में कोई सानी नहीं  है    ।

यह भी पढ़े :  किसान परिवार से निकल कर राजस्थान बोर्ड के चैयरमेन बनने तक का सफर

Be Positive जसराज जी की जज्बे को सलाम करता है  और उम्र के इस पड़ाव में भी अपने ग्राहकों से लगाव को सराहाता है ।

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.