चित्र साभार : YourStory

मुश्किल समय में ही हमें अपनी असली काबिलियत के बारे में पता चलता है। ऐसे ही कुछ अनुभव रहा है साउथ इंडियन फूड चेन डोसा प्लाजा (Dosa Plaza) के फाउंडर प्रेम गणपति ( Prem Ganapathy) का। मुंबई की एक बेकरी में बर्तन धोने वाले प्रेम ने कभी सोचा नहीं था कि एक वक्त ऐसा भी आएगा जब वे फूड चेन के मालिक होंगे।

तमिलनाडु के प्रेम गणपति सात भाई-बहनों में से एक हैं, जिन्होंने मात्र दसवीं तक ही पढ़ाई की है। 17 साल की उम्र में वे कुछ बनने का सपना लेकर मुंबई आए थे। लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंजूर था। उन्हें खुद को साबित करने के लिए काफी मश्क्कत करनी पड़ी।

यह भी पढ़े :  नरेंद्र मोदी से लेकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री तक, सभी मानते हैं इस बुजुर्ग का आदेश

200 रुपए लेकर घर से प्रेम बिज​ने​​स करने मुंबई के लिए निकले। लेकिन मुंबई के बांद्रा स्टेशन से बाहर निकलते ही उनके साथ लूट हो गई। एक शख्स ने उनके सारे पैसे लूट लिए। मुंबई जहां वो बिजनेस शुरू करने आए थे, उनका पहला अनुभव ही अच्छा नहीं रहा। उनके साथ सबसे बड़ी दिक्कत भाषा की थी। एक तो वे मुंबई शहर से अनजान थे और दूसरा​,​ भाषा की सबसे बड़ी समस्या थी।

पैसा कमाने के लिए प्रेम ने डेढ़ सौ रुपए महीने पर एक बेकरी में बर्तन साफ करने का काम शुरू किया। ज्यादा पैसा कमाने के लिए वे रात में एक ढाबे पर खा​ना​​ बनाने का काम भी करने लगे। उन्हें डोसा बनाने का शौक था और इसी वजह से ढाबा का मालिक उनसे खुश रहता था।

यह भी पढ़ेहिंदी माध्यम से IAS टॉप करने वाले युवा के संघर्षों की प्रेरणादायक कहानी

प्रेम ने पैसा कमाने के लिए कड़ी मेहनत की। ये सब करते हुए दो साल बीत गए थे। अब उनके पास इतने पैसे इकट्ठे हो गए थे कि वे खुद का कुछ बिजनेस शुरू कर सकते थे। उन्होंने 150 रुपए मही​ने​ पर हाथठेला किराए से लिया और अपना डोसा का बिजनेस शुरू किया।

1992 में उन्होंने मुंबई के वाशी स्टेशन के बाहर डोसा का ठेला लगाना शुरू किया। कई बार नगर निगम की ​गाडियां उनका ठेला उठाकर ले जाती थीं और सामान भी सारा खराब हो जाता था, लेकिन इन सबके बावजूद उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। कुछ ही दिनों में आसपास के एरिया में उनका डोसा मशहूर हो गया।

यह भी पढ़ेकपड़े के थैले बनाने से लेकर करोड़ो रुपये की कंपनी बनाने वाले उद्यमी की कहानी

प्रेम का बिजनेस अच्छा चलने लगा तो उन्होंने 5000 रुपए में एक दुकान किराए पर ली और डोसा रेस्तरां शुरू किया। रेस्तरां में आने वाले कस्टमर्स में ज्यादातर कॉलेज स्टूडेंट्स हुआ करते थे। इन्हीं स्टूडेंट्स से प्रेम ने इंटरनेट चलाना सीखा, इंटरनेट पर उ​न्होंने खाने को और बेहतर बनाने की रेसिपी देखी।

इंटरनेट पर मिली जानकारी की मदद से उन्होंने अपने खाने में भी एक्सपेरिमेंट करना शुरू किया। इसी तरह वे एक साल के अंदर डोसा की 26 नई वेरायटी मार्केट में लेकर आए। इसमें शेजवान डोसा, पनीर चिली डोसा, स्प्रिंग रोल डोसा जैसा कई वेरायटी के डोसे थे, जो कस्टमर्स को आकर्षित करते थे। साल 2002 तक उनके रेस्तरां में तकरीबन 105 वेरायटी के डोसा मिलने लगा था।

प्रेम का हमेशा से एक सपना था कि वे अपना रेस्तरां किसी बड़े मॉल में खो​लें​​। उन्होंने कई मॉल से संपर्क भी किया, लेकिन हर जगह से उन्हें निराशा ही हाथ लगी। लेकिन उन्होंने भी हार नहीं मानी और आखिरकार वाशी के एक मॉल में उन्हें आउटलेट खोलने की इजाजत मिल ही गई। और यहीं से उनकी किस्मत पलटी।

यह भी पढ़ेअपना घर बेचकर करोड़ो की कंपनी खड़ी करने वाले दम्पति की कहानी

उनका बिजनेस बेहतरीन चलने लगा। फिर उन्हें फ्रेंचाइजी के ऑफर भी आने लगे। ​ये​ ऑफर उन्हें विदेशों से भी मिल रहे थे। इसके बाद उन्होंने डोसा आउटलेट अलग-अलग जगहों और शहरों में खोलना शुरू किए। उन्होंने अपने भाइयों को भी इसी काम में लगा दिया।​

2017 में डोसा प्लाजा के नाम से भारत के 18 स्टेट में 55 रेस्तरां और विदेशों में 17 रेस्तरां हो गए थे। डोसा प्लाजा न्यूजीलैंड, दुबई, मस्कट जैसे देशों में काफी मशहूर है। प्रेम गणपति की संपत्ति 30 करोड़ रुपए से भी ज्यादा है।

प्रेम गणपति ( Prem Ganapathy) के अनुसार कुछ बिज़नेस मंत्र
– बिजनेस एक ऐसी चीज है, जहां कभी भी कुछ भी हो सकता है, लेकिन हमारी बेहतर सोच हर स्थिति से निपटने में हमारी मदद करती है।
– जो भी बिजनेस शुरू करें उसमें पूरी मेहनत और समर्पण के साथ काम करें।
– हमेशा अपने लक्ष्य पर फोकस होना चाहिए और सफलता के साथ कभी समझौता न करें।
– बिजनेस में गुडविल की बड़ी भूमिका होती है। इसे हमेशा बनाए रखे।
– इनोवेशन हर बिजनेस को महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। प्रयोग करने में कभी पीछे न हटे।​​

 

 

Comments

comments