संघर्ष की पराकाष्ठा हूँ मैं, हाँ एक नारी हूँ मैं ।
समाज की धुरी हूँ मैं, सृजन की परिभाषा हूँ मैं ॥

यह पंक्तियाँ हरियाणा के फरीदाबाद की एक समाजसेविका पर सटीक बैठती हैं. संघर्षों का सामना करते हुए अपने शिक्षा प्राप्त की और अब सामाजिक समस्याओं को दूर करने में लगी हुई हैं. स्वच्छ भारत अभियान, रक्तदान एवं सामाजिक अधिकारों के लिए हमेशा खड़ी मिलती हैं. अपने संगठन के जरिये जमीनी स्तर की समस्याओं को सुलझाने का प्रयास कर रही हैं परमिता चौधरी (Parmita Chaudhary).

संस्कार फाउंडेशन नाम की संस्था के जरिये परमिता चौधरी समाज के गरीब तबके की मदद के साथ ही सामाजिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखती हैं. गर्मी में पानी की किल्लत हो या कॉलेज में छात्रा के साथ यौन शोषण का मुद्दा हो या पुलिस थाने में महिला को बेरहमी से पीटना हो, अपने संगठन के जरिये समस्या सुलझाने का प्रयास करती हैं. महिला अधिकारों एवं समस्याओं पर इनका विशेष ध्यान रहता हैं.

blood donation camp sanskar foundation
रक्तदान के लिए प्रेरित करती परमिता चौधरी और संस्कार फाउंडेशन टीम

बी पॉजिटिव इंडिया से बातचीत के दौरान परमिता चौधरी बताती हैं कि मेरा जन्म हरियाणा के फरीदाबाद जिले के दयालपुर गांव में हुआ. मेरे परिवार में सात बहनें हैं जबकि पिता खेती-किसानी के काम करने के साथ ही अध्यापक हैं. जब मैंने आठवीं पास की थी तभी मेरी शादी हो गई थी. ससुराल की तरफ से मिले समर्थन के कारण मैंने पोस्ट ग्रेजुएशन तक पढाई की. अभी मैं फिजिकल एजुकेशन टीचर के रूप में कार्य कर रही हूँ.

परमिता आगे बताती हैं कि सामाजिक सरोकारों से हमेशा जुड़ाव रहा लेकिन वो कम क्षेत्र तक ही सीमित था. जब भी हम किसी सरकारी या निजी कार्यालय में काम के सिलसिले में जाते थे तो हमें हमारी संस्था के बारे में पुछा जाता था. इसके बाद हमने सामाजिक कार्य को एनजीओ की शक्ल दी और इस तरह संस्कार फाउंडेशन का जन्म हुआ.

campaign for wine shop
शराबबंदी के खिलाफ मुहिम चलाती परमिता चौधरी और संस्कार फाउंडेशन टीम

हमने ट्रस्ट का नाम संस्कार फाउंडेशन नाम इसलिए रखा क्योंकि हम जो भी सामाजिक कार्य और महिला उत्पीड़न एवं यौन शोषण के खिलाफ मुहिम चलाते हैं, वह हमारे संस्कारों से ही जुड़े हैं. अगर हमारे संस्कार अच्छे होंगे तो हम बच्चों को संस्कार अच्छे देंगे तो वह ताउम्र कोई भी गलत कार्य नहीं करेंगे.

परमिता आगे बताती हैं कि संस्कार फाउंडेशन में 99% महिलाएं हैं. अब तक 500 के करीब महिलाएं संस्कार फाउंडेशन से जुड़ चुकी हैं. संस्कार फाउंडेशन का उद्देश्य जनहित में कार्य करना हैं जिनमे गरीब, असहाय, बुजुर्गों और बच्चों की सेवा के साथ मदद करना, गरीब बच्चों को शिक्षा दिलाना, गरीब मरीज़ों का इलाज करवाना और रक्तदान शामिल हैं. इसके साथ ही सामाजिक समस्याए, सड़क, पानी , शराबबंदी, बिजली के साथ ही पर्यावरण सरंक्षण एवं स्वच्छ भारत अभियान में भी संस्कार फाउंडेशन अपना महत्वपूर्ण योगदान देता हैं.

sanskar foundation with patient
मरीजों के साथ परमिता चौधरी

एक घटना का जिक्र करते हुए परमिता चौधरी बताती हैं कि जब हम झारखण्ड की बच्ची दीपांजलि पांडे से मिले तो पेट दर्द से परेशान थी लेकिन चिकित्सा जाँच के बाद ब्लड कैंसर के बारे में पता चला. संस्कार फाउंडेशन ने करीब 7 महीने सफदरजंग हॉस्पिटल दिल्ली में एडमिट रखा और ब्लड प्लेटलेट्स, मैडिसन सब उपलब्ध करवाया.

दीपांजलि पांडे के लिए इलाज के दौरान उन्हें लगातार रक्त की जरूरत पड़ती थी. जब यह इलाज लम्बा चला तो दोस्तों और रिश्तेदारों ने मेरा फोन उठाना बंद कर दिया था. उनका मानना था कि अगर मेरा फोन उठाया तो वह सिर्फ ब्लड मांगेगी.

paramita working with officials
सम्बंधित अधिकारीयों को समस्या से अवगत करवाती हुई परमिता चौधरी और संस्कार फाउंडेशन टीम

जब स्थिति नियंत्रण से बाहर होने लगी तो मैंने एक पोस्टर बनाया और मेट्रो स्टेशन बड़खल (फरीदाबाद) पर उसे लेकर अपनी बेटी के साथ करीब 2 घंटे खड़ी रही. इसके कारण कई लोग मेरी मदद के लिए तैयार हो गए और एक ही दिन में 35 यूनिट ब्लड इकठ्ठा हो गया. इलाज के बाद दीपांजलि बिल्कुल स्वस्थ हैं और अब आगे की पढाई कर रही हैं. जब भी वह वीडियो कॉल या फोन करती है उसकी मुस्कुराहट देखकर दिल को बहुत सुकून मिलता है.

परमिता चौधरी कहती हैं कि अपने अंदर इंसानियत को बनाए रखें. जहां भी लगे कि दूसरे को आपकी मदद की जरूरत है तो बढ़-चढ़कर अपना कदम आगे बढ़ाए. जिस भी तरह से हो सकती हैं उनकी मदद करें. पैसे के बिना भी कई तरीके से सामाजिक मदद हो सकती है जैसे शारीरिक तौर पर (फिजिकली), काउंसलिंग, गाइडलाइन आदि शामिल हैं.

campign for sucide
न्याय के लिए आंदोलन करती परमिता चौधरी और संस्कार फाउंडेशन टीम

अगर आप भी परमिता चौधरी या ‘संस्कार फाउंडेशन‘ से जुड़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करे !

बी पॉजिटिव इंडिया, परमिता चौधरी और संस्कार फाउंडेशन की पूरी टीम के कार्यों की प्रशंसा करता हैं और भविष्य के लिए शुभकामनाए देता हैं.

Comments

comments