देश में बेरोजगारी की बढ़ती दर ने नीति-निर्माताओं के साथ ही आमजन का जीवन मुश्किल कर रखा हैं. युवाओं को डिग्री या शिक्षा के भरोसे बैठकर इंतज़ार करने के बजाय खुद का छोटा-मोटा काम शुरू करना चाहिए. प्रधानमंत्री मोदी ने भी कहा था क‍ि अपनी जीविका चलाने के ल‍िए नौकरी करना ही एकमात्र साधन नहीं है. अगर कोई पकौड़ा बेचकर द‍िन में 200 रुपये भी कमाता है तो इसे उसकी नौकरी के रूप में ही देखा जाना चाह‍िए. हालांकि इस पर व‍िपक्षी दलों ने काफी हंगामा किया था, लेकिन नौकरी की तलाश में इधर-उधर भटक रहे कुछ बेरोजगारों को प्रधानमंत्री मोदी की ये बात समझ आ गई.

उत्तर-प्रदेश के आगरा के नूरी दरवाजा स्‍थ‍ित मोदी पकौड़ा भंडार, इन द‍िनों खूब चर्चा में बना हुआ है. सुबह से लेकर शाम तक यहां पकौड़ा प्रेम‍ियों की जमकर भीड़ लगती है. अगर बार‍िश हो जाए तो सोने पर सुहागा. दरअसल, यह दुकान तीन दोस्‍त चलाते हैं. कुछ द‍िन पहले तक ये तीनों दोस्‍त नौकरी की तलाश में इधर-उधर भटक रहे थे. लेकिन क‍िसी से मदद नहीं म‍िली.

pakoda shop
आगरा के नूर दरवाजा स्थित ‘मोदी पकौड़ा भण्डार’ | तस्वीर साभार : News 18 हिंदी

जेब में इतने पैसे भी नहीं थे क‍ि कोई कारोबार शुरू कर सकें. तीनों ने व‍िचार क‍िया क‍ि कारोबार भले ही बड़ा ना हो. पर जो थोड़ी सी पूंजी है उनके पास, उससे वह एक छोटी सी पकौड़े की दुकान ताे शुरू कर ही सकते हैं. तीनों ने म‍िलकर नूरी दरवाजा स्थित मोदी पकौड़ा भंडार स्‍टार्टअप शुरू क‍िया. पकौड़ा भंडार को शुरू हुए बस कुछ ही द‍िन हुए हैं और मुनाफा भी आने लगा है.

तीनों दोस्‍तों में से एक राजकुमार ने ह‍िन्‍दी न्‍यूज18 को बताया क‍ि पीएम मोदी के भाषण से हमें इसका आइड‍िया म‍िला. पकौड़ा बेचने का फैसला लेते वक्‍त मन में थोड़ी झ‍िझक जरूर थी. पर पांच द‍िनों में जो मुनाफा हमें नजर आ रहा है, उससे हमें यह यकीन हो गया है क‍ि यह स्‍टार्टअप शुरू करने का फैसला ब‍िल्‍कुल सही था. मोदी पकौड़ा भंडार में पांच प्रकार के पकौड़ों की ब‍िक्री होती है. ज‍िनकी कीमत 120 रुपये प्रति क‍िलाे है. तीनों दोस्‍तों की उम्‍मीद है क‍ि जल्‍द ही उनके मुनाफे का आंकड़ों लाखों तक पहुंच जाएगा.

pakoda shop 2
आगरा के नूर दरवाजा स्थित ‘मोदी पकौड़ा भण्डार’ पर ग्राहकों की भीड़ | तस्वीर साभार : News 18 हिंदी

तीनों दोस्‍तों का कहना है क‍ि जब आपके हाथ में पैसा हो तो आपका आत्‍मव‍िश्‍वास और बढ़ जाता है. मोदी पकौड़ा भंडार खुलने के बाद कई बेरोजगार युवाओं को स्‍टार्टअप के लाभ द‍िखने लगे हैं.

बी पॉजिटिव इंडिया, राजकुमार और उनके दोस्तों के कदम की सराहना करता हैं और उम्मीद करता हैं कि आप से प्रेरणा लेकर देश के युवा भी अपना खुद का काम शुरू करेंगे !

(मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित)

Comments

comments