जिस देश में बेटियों को जन्म से पहले ही गर्भ में मार दिया जाता है. पढाई ख़त्म होने से पहले ही उनके हाथ पीले कर दिए जाते है. पढाई पर बंदिशे लगाई जाती है लेकिन जब भी बेटियों को मौका मिलता है तो वो अपनी प्रतिभा और मेहनत से सभी को प्रभावित कर देती है.

एक ऐसी ही बेटी की कहानी है जो छत्तीसगढ़ से निकलकर देश के सबसे बड़े राज्य उत्तरप्रदेश में जिला अधिकारी बन जाती है. जनता से जुड़ाव ऐसा की लोग उन्हें सोशल मीडिया पर शिकायते करते हुए नजर आते है.

अपने जिले में ऐसे कार्यक्रम आयोजित करवाती है कि निति आयोग के अध्यक्ष भी ख़ुशी से शिरकत करते है. उत्तरप्रदेश के फिरोजाबाद जिले की महज 26 साल की उम्र में आईएएस बनकर काया पलटने वाली IAS का नाम है नेहा शर्मा (Neha Sharma IAS).

अपने परिवार की लगातार मदद के बाद फिरोजाबाद जिले की डीएम बनी नेहा शर्मा ऐसे लोगों के लिए मिसाल हैं जो बहन-बेटियों के लिए कुछ कर गुजरने की तमन्ना दिल में रखते हैं.

neha sharma with niti aayog chairman
नीति आयोग के चेयरमैन के साथ IAS नेहा शर्मा | Photo Credits: आईएएस नेहा शर्मा की फेसबुक वाल से साभार

प्रशासन को आम जनता के लिए सुलभ बनाने के लिए उनके कार्यों की प्रशंसा कई अखबारों एवं सोशल मीडिया पर हो चुकी है.

बचपन बीता छत्तीसगढ़ में ,माता-पिता है डॉक्टर . .

फ़िरोज़ाबाद की जिलाधिकारी नेहा शर्मा का जन्म 13 फरवरी 1984 को छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले में हुआ था. इनके माता-पिता दोनों पेशे से डाॅक्टर हैं. डॉक्टर दम्पति के घर जन्मी नेहा के पिता डाॅ. आरके शर्मा और मां डाॅ. रजनी शर्मा.

उनके अलावा घर में एक छोटा भाई संकल्प शर्मा जो मेडिकल की तैयारी कर रहे हैं. एक छोटी बहन निष्ठा शर्मा जो बड़ी बहन की सफलता को देखते हुए UPSC की तैयारी कर रही है.

नेहा शर्मा एक इंटरव्यू में बताती हैं कि छत्तीसगढ़ में शिक्षा के अच्छे इंतजाम नहीं थे. कक्षा छह तक की पढ़ाई उन्होंने वहीं पर की . इसके बाद माता-पिता ने उन्हें ग्वालियर के बोर्डिंग सिंधिया स्कूल में दाखिला करा दिया था. जहां उन्होंने कक्षा 12 तक की शिक्षा ग्रहण की.

दिल्ली में पढाई के बाद बनी IAS . .

उच्च शिक्षा के लिए वह दिल्ली चली गई. यहाँ पर उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से सम्बद्ध प्रसिद्ध कॉलेज मिरांडा हाउस से उन्होंने बीए और उसके बाद दिल्ली काॅलेज आॅफ इकोनोमिक्स से मास्टर की डिग्री प्राप्त की.

neha sharma IAS with up cm
उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ IAS नेहा शर्मा  | Photo Credits : आईएएस नेहा शर्मा की फेसबुक वाल से साभार

मास्टर की पढ़ाई करने के साथ ही वह यूपीएससी की तैयारी भी कर रहीं थी. वर्ष 2010 में यूपीएससी की परीक्षा में 66वीं रैंक प्राप्त कर आईएएस में चयनित हुई.

ट्रेनिंग के बाद मिला उत्तर प्रदेश कैडर . .

दो साल की ट्रेनिंग के बाद उन्हें उत्तर प्रदेश कैडर दिया गया. उनकी पहली पोस्टिंग वर्ष 2012 में बागपत में बतौर एसडीएम के पद पर हुई. 2013 में वह कानपुर सदर में एसडीएम और वर्ष 2014-15 में उन्नाव की सीडीओ के पद पर रहीं. तीन मार्च 2017 को फिरोजाबाद में पहली बार डीएम के पद पर कार्यभार ग्रहण किया.

डीएम नेहा शर्मा ने मेरठ में आईआरएस कस्टम विभाग में कार्यरत दर्पण से शादी की है. उनकी एक तीन साल की बेटी है. जिसका नाम पोयम है. उत्तर प्रदेश के आदेश के बाद उन्होंने अपनी सम्पति का ब्यौरा भी सार्वजनिक किया है. उनकी कुल संपति 2.65 करोड़ घोषित की गई है. उनके पास पश्चिमी यूपी के गाजियाबाद के अलावा छत्तीसगढ़ के बैकुंठपुर भी संपति है.

सोशल मीडिया पर है सक्रिय . .

नेहा शर्मा सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय है तथा फेसबुक पर लगभग दो लाख लोगों ने उनको फॉलो कर रखा है. सोशल मीडिया का इस्तेमाल वह आम जनता के निराकरण में भी बखूबी कर रही है.

neha sharma IAS on work
पैदल दौरा करती IAS नेहा शर्मा  | Photo Credits : आईएएस नेहा शर्मा की फेसबुक वाल से साभार

नेहा शर्मा का कहना है कि उनका मकसद लोगों की समस्याएं सुन उनका निदान कराना है. वह जनता के बीच रहना चाहती हैं.

उनके दुख दर्द को बांटकर उनके चेहरे पर खुशी देने का प्रयास करती हैं. उनका यह सदैव प्रयास रहेगा कि उनके दरवाजे पर आने वाले व्यक्ति की समस्या सुन उनका निराकरण कराएं.

नोट : यह पोस्ट इंटरनेट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार लिखी गयी है. आपको इस पोस्ट में किसी भी तथ्य पर आपत्ति हो तो हमें जरूर कमेंट बॉक्स में बताये.

Comments

comments