हरयाणा के झज्जर में देश के सबसे बड़े राष्ट्रीय कैंसर संस्थान (National Cancer Institute) की शुरुआत ही चुकी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुरुक्षेत्र से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इसका उद्घाटन किया था.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार बताया जा रहा है कि राष्ट्रीय कैंसर संस्थान में 50 बेड की सुविधा शुरू की जा चुकी है. इस साल के अंत तक यहां 400 बेडों की सुविधा शुरू कर दी जाएगी. फिलहाल संस्थान की ओपीडी में प्रतिदिन 80 से 100 मरीजों को देखा जा रहा है.

inside hospital
अस्पताल में इलाज शुरू हो चूका है

झज्जर के राष्ट्रीय कैंसर संस्थान की फीस महज 10 रुपये है. यह ओपीडी शुल्क है. जनवरी से ही इस संस्थान में ओपीडी सेवा शुरू की गई थी. फिलहाल एम्स से यहां मरीज रेफर किए जा रहे हैं.

राष्ट्रीय कैंसर संस्थान के निदेशक डॉक्टर जीके रथ ने बताया कि दिल्ली के एम्स से भी यहां मरीज लाए जा रहे हैं. साल 2020 तक 500 बेड की सुविधा शुरू करने का लक्ष्य है. यहां मार्च से ऑपरेशन थियेटर और रेडियोथेरेपी की सुविधा भी शुरू हो चुकी है.

machines at nciaiims
अत्याधुनिक उपकरणों से लैस है यह संस्थान

गौरतलब है कि झज्जर में तैयार हुए देश के सबसे बड़े कैंसर संस्थान में प्रोटोन थैरेपी की भी व्यवस्था की गई है. यह ऐसी थैरेपी है जिसमें प्रोटोन बीम से मरीजों के कैंसर के ट्यूमर को नष्ट कर दिया जाता है. इसके लिए एम्स ने अत्याधुनिक मशीन का ऑर्डर भी दे दिया है. निजी अस्पतालों में इस मशीन से इलाज का खर्च 20 से 25 लाख रुपये तक जाता है.

प्रोटोन थैरेपी केवल कैंसर कोशिकाओं को ही निशाना बनाती है. जबकि आसपास की स्वस्थ कोशिकाओं को नुकसान नहीं पहुंचता है. इससे शरीर के अन्य हिस्सों पर रेडिएशन का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है.

बी पॉजिटिव इंडिया इस सकारात्मक पहल का स्वागत करता है. आप भी स्वास्थ्य का ध्यान रखिये जिससे की कैंसर जैसी बीमारियां आपके आसपास न भटके. स्वस्थ रहे, मस्त रहे !

Comments

comments