जिस उम्र में बच्चे खेलकूद में व्यस्त रहते हैं, उस उम्र में उत्तर-प्रदेश के एक लड़के ने सौ से ज्यादा किताबे लिख दी. उत्तर प्रदेश में 12 साल के बच्चे ने धर्म और जीवनी जैसे विषयों पर अब तक कुल 135 किताबें लिखी हैं. इसमें राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जीवनी भी शामिल है.

उत्तर प्रदेश के अयोध्या के रहने वाले मृगेंद्र राज ने छह साल की उम्र से किताबें लिखनीं शुरू की और उनकी पहली किताब कविताओं का एक संकलन थी. वह लेखक के तौर पर ‘आज का अभिमन्यु‘ नाम का उपयोग करते हैं और उनके नाम कुल चार वर्ल्ड रिकॉर्ड हैं.

मृगेंद्र बताते हैं की कहा, “मैंने रामायण के 51 किरदारों का विश्लेषण करके किताबें लिखीं. हर किताब में करीब 25 से 100 पन्ने हैं. मुझे यहां तक की लंदन स्थित वर्ल्ड यूनिवर्सिटी आफ रिकार्ड्स से डॉक्टरेट के लिए ऑफर भी मिला.”

सुल्तानपुर स्थित एक निजी स्कूल में पढ़ाने वाली उनकी मां ने कहा कि उनके लड़के ने बचपन में ही पढ़ने में रुचि दिखाई और उन्होंने अपने बेटे को प्रोत्साहित किया. मृगेंद्र के पिता राज्य के चीनी उद्योग व गन्ना विकास विभाग में काम करते हैं.

book launch of mrigendra raj
बुक के साथ मृगेंद्र राज

मृगेंद्र ने कहा कि वह बड़े होकर एक लेखक ही बने रहना चाहते हैं और विभिन्न विषयों पर अधिक से अधिक किताबें लिखना चाहते हैं. मात्र साढ़े छह साल की नन्हीं उम्र में मृगेंद्र द्वारा रचित काव्य संग्रह ‘उद्भव’(मातृ सत्ता को समर्पित) को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए चयनित किया गया है. आज के अभिमन्यु नाम से प्रसिद्ध मृगेंद्र राज विलक्षण प्रतिभा के धनी हैं.

अगर आप भी मृगेंद्र राज से संपर्क करने के लिए यहाँ क्लिक करे !

बी पॉजिटिव इंडिया, मृगेंद्र राज की विलक्षण प्रतिभा को सलाम करते हैं और भविष्य के लिए शुभकामनाए देता हैं.

( मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित )

Comments

comments