लाखों के कर्जे के बाद देश की बड़ी डिजिटल मीडिया कंपनी बनाने वाले शख़्स का सफर

0
889
Shahid Javed Ansari
Shahid Javed Ansari

एक लड़का जो 27 साल की उम्र में बीस लाख के कर्जे में आ जाता है और सुबह दस बजे से लेकर छह बजे तक जॉब करता है । उसके बाद घर आकर वो अपनी दुकान संभालने में व्यस्त हो जाता है और इसके बाद बचे समय में अपने क्रिएटिव दिमाग से सोशल मीडिया पर एक फेसबुक पेज बनाता है जिस पर करंट सिचुएशन के हिसाब से फनी इमेजेज और जोक्स के साथ ही इंटरस्टिंग आर्टिकल्स लिखता है ।

यह भी पढ़ेकपड़े के थैले बनाने से लेकर करोड़ो रुपये की कंपनी बनाने वाले उद्यमी की कहानी

यह पेज समय के साथ चलता रहता है और उसे कुछ दोस्तों का साथ मिलता है जो इस पेज और भारतीय सोशल मीडिया को बदल कर रख देते है तथा आज के दिन में वायरल होने वाली खबरों का सबसे बड़ा केंद्र उनका पेज या वेबसाइट बन जाता है । आज लगभग 7 साल बाद वो न केवल एक डिजिटल मीडिया कंपनी का कोफाउंडर है बल्कि भारतीय सोशल मीडिया में एक जाना पहचाना नाम है । बैंक के कर्जे में डूबे एक नौजवान से भारत की सफल डिजिटल कंटेंट वेबसाइट या पेज के जनक बनने वाले युवा का नाम है : शाहिद जावेद अंसारी (Shahid Javed Ansari)

बचपन एवं शुरुआती संघर्ष

माया नगरी मुंबई में पैदा हुए शाहिद का बचपन एक आम मुम्बईकर की तरह बीता और वो भी सपने देख कर उन्हें हकीकत में बदलने में लग गए । कॉमर्स में बारहवीं की पढाई के बाद शाहिद ने मैनेजमेंट में स्नातक के बाद MBA की पढाई की और एक निजी कंपनी में सेल्स मैनेजर के रूप में कार्य करने लग गए । जॉब के बाद खाली समय के उपयोग के लिए उन्होंने मुंबई की एक फेमस वड़ा पाव चैन की फ्रेंचाइजी ली और यह निर्णय उनके लिए आत्मघाती साबित हुआ ।

यह भी पढ़ेअपना घर बेचकर करोड़ो की कंपनी खड़ी करने वाले दम्पति की कहानी

शुरुआत के कुछ दिनों के बाद ही उनका बिज़नेस ठंडा पड़ने लग गया और दिन-ब-दिन उनके ऊपर कर्जा बढ़ता जा रहा था और एक वक्त तो उनके ऊपर बैंक का बीस लाख का कर्जा हो गया । अब शाहिद के पास कठिन मेहनत के आलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था इसलिए उन्होंने अपने कर्जे को कम करने के लिए जॉब के बाद दूकान पर भी स्थायी रूप से बैठना शुरू कर दिया । उस समय शाहिद औसतन प्रतिदिन 17 – 18 घंटे काम कर रहे थे और अपना कर्जा कम करने के लिए जी तोड़ मेहनत कर रहे थे ।

एक धमाकेदार आईडिया

इसी बीच सन 2010 में दक्षिण भारत के मशहूर हीरो रजनीकांत की फिल्म “रोबोट ” आयी थी , यह एक साइंस बेस्ड फिक्शनल ड्रामा थी लेकिन इस मूवी के बाद रजनीकांत और उनकी फिल्म के बारे में कई फनी जोक्स और चुटकले चलने लगे । यह वही दौर था जब भारत के युवा ऑरकुट के दौर से निकलकर फेसबुक की तरफ आकर्षित हो रहे थे । फेसबुक में एक पेज बनाने का ऑप्शन होता है जिस पर आप व्यक्ति , कंपनी या कोई ग्रुप के बारे में जानकारी दे सकते है । शाहिद भी फेसबुक का इस्तेमाल करते थे और अपने स्वभाव के अनुरूप उन्होंने एक पेज बनाया जो रजनीकांत और उस समय के प्रसिद्ध टीवी शो CID को लेकर बनाया ।

यह भी पढ़ेअपने असाधारण आईडिया से देश के परिवहन क्षेत्र को बदलने वाले युवा उद्यमी की कहानी

इस तरह शाहिद ने 10 अक्टूबर 2010 को RVCJ का पेज बनाया और वो लगातार अपने क्रिएटिव आइडियाज के दम पर फनी जोक्स पोस्ट कर रहे थे लेकिन अभी भी वो अपनी जॉब और दुकान के ऊपर बराबर ध्यान दे रहे थे और रात को 11 बजे के आसपास वो पेज पर पोस्ट करते या फिर दिन में खाली समय का उपयोग भी पेज को आगे बढ़ाने में करने लगे। धीरे-धीरे उनके पेज की लोकप्रियता बढ़ती गयी और कुछ ही समय में हज़ारों लोगों ने उनके पेज को फॉलो करना शुरू कर दिया ।

शानदार टीम का बनना

इसी बीच शाहिद की मुलाकात उनके भविष्य के बिज़नेस पार्टनर अंकित से होती है और अंकित भी इस पेज पर उपलब्ध पोस्ट और क्रिएटिविटी को देखकर पेज से जुड़ जाता है । अब शाहिद और अंकित दोनों मिलकर इस पेज को आगे बढ़ाने में लग गए । अंकित जो कि वीडियो एडिटिंग एवं इमेज क्रिएशन में एक्सपर्ट था, ने पेज पर इमेज पोस्ट डालना शुरू किया जिसके बाद उनके पेज की लोकप्रियता में काफी इजाफा होने लगा । अंकित अभी ही अपनी कॉलेज की पढाई कर रहे थे तो शाहिद अपनी संघर्षपूर्ण जिंदगी में व्यस्त थे । RVCJ से उनकी अगले कुछ वर्षों में कोई आय नहीं हो रही थी और वो केवल अपने जूनून को पूरा करने में लगे हुए थे ।

यह भी पढ़ेनौकरी छोड़ चाय बेचकर करोड़ो कमाने वाले दोस्तों का दिलचस्प सफर

इस के कुछ समय बाद RVCJ में हरप्रीत ( जो कि सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे और एक MNC में टेक्निकल लीडर के रूप में कार्य कर रहे थे ) का प्रवेश होता है । हरप्रीत ने अपने कंप्यूटर और टेक्निकल कौशल के इस्तेमाल से RVCJ से पैसे कमाने के बारे में काम करने लगे जबकि शाहिद और अंकित अभी भी पेज को सुचारु रूप से चलाने के साथ कंटेंट राइटिंग और क्रिएटिविटी का काम देख रहे थे । हरप्रीत की टेक्नॉलजी और शाहिद एवं अंकित की क्रिएटिविटी ने काम दिखाना शुरू किया और कुछ ही समय में RVCJ भारत के लोकप्रिय डिजिटल कंटेंट वेबसाइट के रूप में प्रसिद्ध हो गया ।

सफलता के शिखर पर

RVCJ डिजिटल मीडिया की स्थापना के बाद शाहिद और उनकी टीम ने पैसा कमाना शुरू किया और धीरे-धीरे उनका रेवेन्यू बढ़ता रहा । आज RVCJ वेबसाइट और पेज भारत के टॉप सर्च एवं विजिटेड पेज की लिस्ट में शुमार है तथा शाहिद ने 2015 में अपनी जॉब छोड़कर फुल टाइम RVCJ के साथ जुड़ गए है । आज RVCJ के पास लाखों फॉलोवर्स है तथा देश की टॉप 100 वेबसाइट में इनका नाम है ।

यह भी पढ़ेमिलिए उस व्यक्ति से जो किन्नरों को अपने रेस्टोरेंट में नौकरी देकर उनका जीवन बदलना चाहता है

एक समय में कर्जे से जूझने वाले शाहिद ने देश का सबसे बड़ा डिजिटल मीडिया ब्रांड बना दिया है और अभी करोड़ो रुपये की आमदनी है । शाहिद ने अपनी ऑफिस में काम करने वाली लड़की से ही शादी की है और दो बच्चों के पिता है । एक समय पर शाहिद ने कभी भी RVCJ को लेकर कोई प्लान नहीं बनाया था लेकिन सतत मेहनत और शानदार टीम की बदौलत आज शाहिद सफलता के नए आयाम छु रहे है ।

Photo Credits : DInterview

Comments

comments