भारत की खेल के प्रति दीवानगी किसी से छुपी हुई नहीं है और क्रिकेट को तो यहाँ एक धर्म की तरह लिया जाता है लेकिन शुरू से ही भारत में स्पोर्ट्स से रिलेटेड वेबसाइट या ऑनलाइन कंटेंट की हमेशा कमी रही है । भारत में आज कई न्यूज़ चैनल और कम्पनीज ने खेल के क्षेत्र में काफी निवेश किया है लेकिन दीवानगी को जूनून तक पहुंचाने का काम पौरुष जैन (Porush Jain) ने किया है ।

बचपन से ही हॉकी, टेबल टेनिस और क्रिकेट के खिलाड़ी रहे पौरुष भारत की एक मेक इन इंडिया ऑनलाइन स्पोर्ट्स कम्युनिटी बनाना चाहते थे जो भारत के दर्शकों और रीडर्स को अच्छा और उनकी खुद की भाषा में स्पोर्ट्स के बारे में रचनात्मक तरीके से सूचनाए प्रदान कर सके ।

यह भी पढ़े : सरकारी नौकरी छोड़कर खेतीबाड़ी करके करोड़पति बनने वाले युवा उद्यमी

अपनी इसी चाहत के चलते पौरुष ने किसी और कंपनी में काम नहीं करने का फैसला लिया और अपने अद्वितीय आईडिया जो कि एक ऐसा ऑनलाइन प्लेटफार्म जो स्पोर्ट्स के दीवानों को स्पोर्ट्स न्यूज़, मैच रिव्युज़ और खेल के बारे में आंकड़ों के साथ दिलचस्प अंदाज में जानकारी प्रदान करता हो, के लिए काम करना शुरू कर दिया ।

अपनी पढाई के दौरान उन्होंने एक स्पोर्ट्स ब्लॉग शुरू किया और कुछ इंटरस्टिंग नाम रखते हुई , किताबी कीड़ा की तर्ज़ पर “स्पोर्ट्स कीड़ा” नाम रखा जिसका मतलब है कि स्पोर्ट्स के प्रति उसकी दीवानगी लाजवाब है । इस तरह पौरुष ने खेल कम्युनिटी बनाने की नीव रख दी ।

यह भी पढ़े : मिलिए दो भाइयों से जिन्होंने मिलकर शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति ला दी

शुरुआती दौर में वर्डप्रेस(WordPress) के एक ब्लॉग से उन्होंने शुरुआत की तथा कुछ महीनों में ही खुद से दर्जनों पोस्ट लिख डाली । शुरुआती पोस्ट में इन्होने अपने खेल के प्रति दीवानगी के दम पर दिलचस्प जानकारी देना प्रारम्भ किया जिससे उनके रीडर्स भी आकर्षित होने लग गए । धीरे-धीरे इस कम्युनिटी से 50 लोग जुड़ गए और अपना योगदान देने लगे ।

पौरुष के पास MBA की पढाई पूरी करने के बाद दो विकल्प थे , पहला – MBA और अपने प्रोफेशनल अनुभव के दम पर एक कॉर्पोरेट जॉब चुनना और दूसरा था – अपने ब्लॉग को एक लोकप्रिय वेबसाइट में परिवर्तित करके अपनी कंपनी सेट-अप करना ।

यह भी पढ़े : मंदी के दौर में नौकरी खोने के बाद विदेश में करोड़ों की कंपनी बनाने का सफर

पौरुष ने दूसरा और सबसे मुश्किल रास्ता चुना और लग गए पूरी मेहनत से अपने ब्लॉग को भारत की लोकप्रिय स्पोर्ट्स वेबसाइट बनाने में । ब्लॉगर कम्युनिटी और स्पोर्ट्स ब्लॉगर का पौरुष को अच्छा साथ मिला और लगातार मार्गदर्शन और कम्युनिटी के सहयोग से स्पोर्ट्सकीड़ा का आईडिया चल निकला ।

पौरुष MBA करने से पहले इनफ़ोसिस एवं ट्यूटरविस्टा में काम कर चुके थे और अपने वेंचर के लिए उन्होंने पढाई के दौरान एक फुल-प्रूफ बिज़नेस प्लान बनाया जिससे उन्हें एक मुश्किल फैसला लेने में काफी मदद मिली । 2009 के आसपास स्पोर्ट्सकीड़ा को लगभग एक हज़ार यूनिक विज़िटर्स मिल रहे थे जिन्हे पौरुष ने आज 50 मिलियन यूनिक विज़िटर्स में तब्दील कर दिया ।

यह भी पढ़े : क्लास के बुद्धू बच्चे से IAS टॉपर बनने के बाद मोदी सरकार में मंत्री बनने का सफर

स्पोर्ट्सकीड़ा का नाम 17 अगस्त 2009 को वेबसाइट के लिए पंजीकृत हुआ था। इस साइट पर पहला लेख 29 अगस्त 2009 को लिखा गया था। शुरुवाती दिनो में उनके झुझारू ब्लोगर्स क्रिकेट और फुटबॉल से संबन्धित लेख ही लिखते थे। समय के साथ साथ उनके लेखों ने कई प्रतिष्ठित लेखकों और पत्रकारों को स्पोर्ट्सकीड़ा की और आकर्षित किया ।

फिर कई नामचीन ब्लोगर्स ने अपने ब्लॉग को स्पोर्ट्सकीड़ा साइट से जोड़ दिया। अपने आठ सालों के इतिहास में ही स्पोर्ट्सकीड़ा साइट इतनी मजबूत है की आज उनके पास 1000 से ज़्यादा लेखक हैं, जो दुनिया के अलग अलग कोनों से स्पोर्ट्सकीड़ा साइट के लिए लेख लिखते हैं। आज स्पोर्ट्सकीड़ा बास्केटबॉल, कबड्डी , WWE , क्रिकेट , फुटबॉल, रग्बी और कुश्ती जैसे कई खेलों को कवर करती है ।

यह भी पढ़े : अपनी जॉब छोड़कर किसान आत्महत्या से पीड़ित बच्चों को शिक्षा दिलाने वाले शख्स की कहानी

स्पोर्ट्सकीड़ा एशिया में कुछ सबसे तेज़ी से बढ़ती हुई स्पोर्ट्स वेबसाइट्स में से एक है, वो 50 से ज़्यादा खेलों के बारे में अपनी साइट पर खबरें प्रकाशित करते हैं। उनकी स्पोर्ट्स कम्यूनिटी में सभी उम्र और लगभग सभी जगह के लोग हैं। स्पोर्ट्सकीड़ा के पास खेल जगत के कुछ सबसे अच्छे लेखक हैं, और उनकी हमेशा यही कोशिश रहती है की उनके फेन बेस और क्राउड सोर्सिंग की मदद से और प्रतिभा उभर कर सामने आए।

पौरुष हमेशा से ही एक खेल प्रेमी रहे हैं, और इसी प्रेम ने उनको स्पोर्ट्सकीड़ा को बनाने के लिए प्रेरित किया। उनका मकसद भारत में खेल के प्रति लोगो की जानकारी को बढ़ाना था। स्पोर्ट्सकीड़ा आज उनके इस मकसद से काफी आगे बढ़ गयी है, पर पोरुष अभी भी अपने विज़न के प्रति उतने ही समर्पित हैं।

यह भी पढ़े : एक साल पहले नोटबंदी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले शख्स की दिलचस्प कहानी

आज स्पोर्ट्सकीड़ा भारतीय खेल जगत में जाना-पहचाना नाम है और पौरुष ने अपनी लगन और मेहनत के दम पर स्पोर्ट्सकीड़ा को नयी बुलंदियों पर पहुंचा दिया है ।

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.