देश और दुनियां पर्यावरण प्रदुषण के कारण कई समस्याए झेल रही हैं. भारत में भी पिछले दिनों उड़ीसा में ‘फैनी’ और गुजरात में ‘वायु’ तूफ़ान देखने को मिला. तापमान कई जगहों पर 50 डिग्री तक पहुँच गया. देश में कई संस्थान एवं लोग पर्यावरण को बचाने में लगे हुए हैं लेकिन केरल की एक नगरपालिका ने एक कदम आगे बढ़ाते हुए शानदार निर्णय किया हैं.

केरल के थ्रिस्सूर जिले की कोडुन्गल्लुर नगरपालिका ने शहर में नए घर बनवाने वालों के लिए दो पौधे घर में लगाने का नियम अनिवार्य कर दिया हैं. नए नियम के मुताबिक 1500 स्क्वायर फ़ीट के बिल्डिंग एरिया या 80% तक कंस्ट्रक्शन वाली बिल्डिंग में कम से कम दो पेड़ होने चाहिए. अगर यह शर्त नहीं मानी गयी तो मकान रजिस्ट्रेशन नंबर नहीं मिलेगा.

कोडुन्गल्लुर नगरपालिका के चेयरमैन ने TNM से बातचीत में बताया कि हम कई दिनों से इस तरह की योजनाओं पर काम कर रहे थे. इसी चर्चा के बाद 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर नए नियम घोषित किये गए. इस नियम की कड़ाई से पालन होने पर जरूर वायु प्रदुषण में कमी आएगी.

pollution
सांकेतिक तस्वीर  : प्रदुषण का लेवल अब भयानक स्तर पर पहुँच चूका हैं

हम इस योजना को दो फेज में जारी करेंगे. जब भी कोई व्यक्ति मकान निर्माण के लिए आएगा तो बिल्डिंग प्लान के साथ ही दो पेड़ लगाने की जगह निश्चित की जाएगी. इसके बाद मकान पूरा हो जाने के बाद नगरपालिका के अधिकारी उस घर का भौतिक सत्यापन करेंगे और इसी के बाद मकान नंबर जारी किये जायेंगे. इसी के साथ छोटे भूखंडों के लिए भी जल्द ही नए नियम घोषित किये जायेंगे.

इसके साथ ही नगरपालिका राज्य सरकार से बात करके इसे कानूनी अमलीजामा पहनाने के प्रयास में लगी हुई हैं. इसके साथ ही केंद्र एवं राज्य सरकार की योजनाओं में बनने वाले घरों में नगरपालिका मुफ्त में दो पौधे वितरित करेगी और उनके विकास की लगातार मॉनिटरिंग की जाएगी. आम एवं कटहल के साथ ही पर्यावरण को अधिक फायदा पहुंचाने वाले पेड़ों को प्राथमिकता दी जाएगी.

बी पॉजिटिव इंडिया, कोडुन्गल्लुर नगरपालिका की सकारात्मक पहल का स्वागत करता हैं और इसे देशभर में लागू करवाना चाहिए जिससे कि आने वाली पीढ़ियों को हम रहने योग्य वातावरण दे पाए.

Comments

comments