जो करना है, वो करो। अपने दिल की सुनो और लग जाओं काम पर, सफलता जरूर मिलेगी।

यह पंक्तियाँ बिहार के पटना शहर की एक युवा कलाकार पर सटीक बैठती हैं। देश के बड़े शहरों में कलाकारों के लिए प्रदर्शनी और कार्यक्रम आयोजित होते रहते हैं लेकिन पटना जैसे शहर में आर्ट गैलरी और पेंटिंग प्रदर्शनी का आयोजन बहुत ही कम होता हैं। इसी समस्या के समाधान के लिए इस कलाकार ने एक संस्था की स्थापना की जो न केवल कलाकारों को उचित सम्मान और मंच प्रदान करता हैं बल्कि नवोदित कलाकारों और बच्चों को ट्रेनिंग भी देता हैं। कला के प्रशसंको और कलाकारों के बीच खाई को पाटने के लिए जल्द ही ऑनलाइन मार्केटप्लेस भी लांच करने वाली हैं। Passerine foundation की संस्थापक और कलाकार का नाम हैं करीना शिवम (Kareena Shivam)

करीना शिवम अपने संस्थान Passerine foundation के जरिये आर्ट एंड क्राफ्ट को प्रमोट करती हैं। कलाकारों को एक मंच प्रदान करते हैं जिसके जरिये वो लोगो के सामने अपनी कला का प्रदर्शन कर सके। स्कूल एवं कॉलेज जाने वाले बच्चों को भी आर्ट एंड क्राफ्ट सिंखाया जाता हैं।

workshop
बच्चो को कला की बारीकियां सींखाती करीना

फाउंडेशन के जरिये करीना शिवम कलाकारों एवं विद्यार्थियों के लिए प्रदर्शनी, वर्कशॉप, प्रतियोगिता एवं समर कैंप जैसे आयोजन करती हैं। इनके जरिये बच्चों को कला क्षेत्र के प्रसिद्ध कलाकारों से चित्रकला और आर्ट एंड क्राफ्ट की बारीकी जानने को मिलती हैं।

बी पॉजिटिव इंडिया से बातचीत के दौरान करीना शिवम बताती हैं कि मेरा जन्म पटना शहर में हुआ हैं। मैंने मगध यूनिवर्सिटी से बीएससी किया हैं लेकिन बचपन से ही डिज़ाइन और कला में दिलचस्पी रही। अपने शौक को परवान चढाने के लिए मैंने NIFT पटना से फैशन एंड टेक्नॉलजी का कोर्स किया। चित्रकला मैंने खुद से सींखी और बड़े आर्टिस्ट के साथ काम करते हुए अपने हुनर को धार दी।

करीना आगे बताती हैं कि मुझे दिल्ली, पंजाब, ओडिशा और बनारस में कला प्रदर्शनी में भाग लेने का मौका मिला। लेकिन जब मैंने पटना में कला प्रदर्शनी के बारे में पता लगाया तो ज्यादा विकल्प नहीं मिले। मुझे महसूस हुआ कि यदि पटना में ज्यादा मौके नहीं हैं तो मेरे जैसे कई कलाकारों को भी यही दिक्कत होती होगी। पटना में आर्ट एंड क्राफ्ट क्षेत्र में कई लोग काम कर रहे हैं लेकिन उन्हें मंच नहीं मिलता हैं। इसी समस्या के समाधान के लिए मुझे फाउंडेशन शुरू करने का विचार आया।

exhibition at PAtna
कला प्रदर्शनी के दौरान करीना

शुरुआत में करीना को कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। उनके परिवार से कोई भी पहले कला क्षेत्र में नहीं था। उन्हें कला क्षेत्र में काम करने के बजाय शिक्षक बनने की सलाह दी जाती हैं। लेकिन उन्होंने अपने दिल की सुनी और अपने फाउंडेशन का काम पूरी शिद्दत से करने लगी।

पटना में आर्ट गैलरी जैसी कोई सुविधा नहीं थी। किसी भी आर्टिस्ट को शो या प्रदर्शनी के लिए पटना से बाहर जाना पड़ता था। पटना में एक ललित कला अकादमी है लेकिन इसका किराया 60,000 रुपये है जो एक नवोदित कलाकार या संस्था के लिए बहुत ज्यादा होता है।

करीना आगे बताती हैं कि अप्रैल 2017 में मैंने पैंटिंग के लिए पहला वर्कशॉप किया। उस वर्कशॉप में केवल एक विद्यार्थी ही आया था लेकिन मैंने हौसला खोने के बजाय उसे सात दिन तक पेंटिंग, क्ले आर्ट, रीसाइक्लिंग आर्ट के बारे में उसे ट्रेनिंग दी। इस कैंप से मुझे भी बहुत सींखने को मिला।

kids workshop patna
बच्चो को आर्ट एंड क्राफ्ट की ट्रेनिंग देती करीना

इसके बाद करीना ने रुकने के बजाय कड़ी मेहनत से काम करना शुरू किया। पटना के आर्ट कॉलेज में कला प्रदर्शनी का आयोजन किया। उस कला प्रदर्शनी में 23 कलाकारों ने 30 पेंटिंग प्रदर्शित की। इसके बाद ऑनलाइन कम्युनिटी और वर्कशॉप करवाई गयी। इसी कड़ी में दिल्ली में फाउंडेशन का बड़ा इवेंट होने वाला हैं जिसमें 30 कलाकारों की 72 पेंटिंग्स प्रदर्शित होगी।

करीना आगे बताती हैं कि हमारी टीम में 12 सदस्य हैं। अभी हम एक ऑनलाइन पोर्टल (artwaligalli.com) पर काम कर रहे हैं जो कलाकारों को उनकी कला एवं पेंटिंग को सम्मान एवं पैसा दिलाएगा। मार्केट में आर्ट एंड क्राफ्ट आइटम्स की क़ीमत बहुत ज्यादा होती हैं लेकिन कलाकारों के बजाय बिचोलिये या दलाल इसका फायदा उठाते हैं। इस पोर्टल के जरिये हम बिहार एवं देश की कला को पुरे देश के साथ ही विदेश में भी पहुंचाने का लक्ष्य हैं।

kareena Shivam Passerine Foundation awards
एक अवार्ड समारोह के दौरान करीना शिवम

करीना कहती हैं कि जो आप करना चाहते हैं, वो कीजिये। अपने दिल की सुनो। काम वो करो जो आपका दिल कहे। जब आप मन का काम करेंगे तो काम करने में आप कभी नहीं थकेंगे। बच्चो के माता-पिता को भी अपने बच्चे की पसंद या नापसंद के बारे में सोचना चाहिए।

अगर आप भी Passerine Foundation या करीना शिवम से जुड़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करे !

बी पॉजिटिव इंडिया, करीना शिवम और ‘Passerine फाउंडेशन‘ की पूरी टीम को भविष्य के लिए शुभककामनाए देते हैं और उम्मीद करते हैं कि आप से प्रेरणा लेकर देश की लड़किया आत्मनिर्भर बनेगी।

Comments

comments