IPS Sangeeta Kalia : भारत में प्रशासनिक अधिकारीयों और जन-प्रतिनिधियों के बीच रस्साकशीं नयी बात नहीं है. जब भी कोई प्रशासनिक अधिकारी नियमों का हवाला देकर जन-प्रतिनधियों का काम नहीं करता है तो उसे ट्रांसफर और दूर-दराज़ के क्षेत्रों में पोस्टिंग दे दी जाती है.

ऐसा ही कुछ हुआ है हरियाणा कैडर की एक महिला अधिकारी के साथ, छह नौकरियों को छोड़ कर UPSC की परीक्षा पास करके IPS बनने वाली अधिकारी की एक मंत्री से अदावत मीडिया की सुर्खियां में रही. जी हाँ , हम बात कर रहे है तेज – तर्रार महिला IPS अफसर संगीता कालिया (Sangeeta Kalia) की.

कड़ी मेहनत से बनी आईपीएस, छोड़ा छह सरकारी नौकरियों को

संगीता कालिया भिवानी जिले के एक साधारण परिवार में जन्मी. पुलिस विभाग में ही कारपेंटर का काम करने वाले की बेटी संगीता कालिया ने अपने पिता के सपनों को पूरा करने के लिए कड़ी मेहनत की.

पुलिस लाइन में अपना बचपन गुजारने वाली संगीता ने सरकारी स्कूल में ही अपनी शिक्षा पूरी की. घर के हालात इतने अच्छे नहीं थे लेकिन उन्होंने सुविधाओं की कमी को एक मौके के रूप में लिया.

 कुछ अलग करने का सपना देखा और उसे पूरा किया. वर्दी पहनते हुए कसम खाई थी कि इसकी आन-बान पर कोई दाग नहीं लगने दूंगी और इसी काम को मैंने हर एक पोस्टिंग पर करने की कोशिश की है. मैंने न तो कभी झूठ का सहारा लिया और न ही लूंगी.

एक समारोह के दौरान संगीता कालिया । चित्र साभार : इंडिया फीड्स

आईपीएस संगीता कालिया (IPS Sangeeta Kalia) के पिता धर्मपाल फतेहाबाद पुलिस में पेंटर थे संगीता ने अपनी पढ़ाई भिवानी से की और 2005 में पहली बार यूपीएससी परीक्षा दी, लेकिन 2009 में तीसरे प्रयास में परीक्षा पास हुई. 

पिता धर्मपाल जिस वर्ष में पुलिस विभाग से रिटायर हुए, उसी वर्ष 2010 में हरियाणा पुलिस में संगीता कालिया ने आईपीएस के पद पर ज्वॉइन किया. संगीता कालिया बेहद ईमानदार अफसर मानी जाती हैं.


IPS Sangeeta Kalia की छवि है बेहद ईमानदार अफसर की  

संगीता कालिया के मुताबिक, उन्हें पुलिस में आने की प्रेरणा बहुचर्चित उड़ान सीरियल देख कर और उनके पिता से मिली है. उनके पति विवेक कालिया भी हरियाणा में एचसीएस हैं. आपको बता दे कि संगीता कालिया वो शख्सियत है, जो छह नौकरियों के ऑफर को छोड़कर पुलिस विभाग में आईं हैं.

पुलिस विभाग से अवार्ड लेती IPS संगीता कालिया | चित्र साभार : इंडिया फीड्स

संगीता ने साल 2005 में सिविल सर्विसेज का पेपर दिया, लेकिन वे सफल नहीं हुई। रेलवे में नौकरी मिली, लेकिन उन्होंने ज्वॉइन नहीं किया। 2009 बैच में तीसरे प्रयास में IPS में चयनित संगीता साहित्य और म्यूजिक में भी दिलचस्पी रखती हैं. फतेहाबाद में महिला थाना की बिल्डिंग बनवाने का श्रेय भी एसपी संगीता कालिया को ही जाता है.

बीजेपी सरकार के एक मंत्री से रहा छतीस का आंकड़ा

संगीता कालिया (IPS Sangeeta Kalia) का हरियाणा में चल रही बीजेपी सरकार के एक मंत्री अनिल विज से छतीस का आंकड़ा रहा. करीब ढाई साल पहले फतेहाबाद में विज और एसपी के बीच विवाद हो गया था. यह विवाद काफी सुर्खियों में रहा था और इससे प्रदेश में राजनीतिक माहौल गरमा गया था. इसके बाद आनन्-फानन में संगीता का ट्रांसफर कर दिया था.

बीजेपी सरकार के मंत्री अनिल विज से रहा छतीस का आंकड़ा | चित्र साभार : हिंदुस्तान टाइम्स

इसी बीच जुलाई 2018 में भी वो एक बार फिर मंत्री से भीड़ गई. वह जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक में नहीं आई थीं. इस पर मंत्री अनिल विज गुस्सा हो गए और उन्होंने इस बारे में मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर से शिकायत की.

भले ही मंत्री और संगीता कालिया के बीच विवाद रहे हो लेकिन उनके काम की तारीफ आमजन से लेकर अधिकारी तक करते है. महिला सुरक्षा जैसा संवेदनशील मुद्दा हो या पुलिस विभाग में महिलाओं के लिए अलग से महिला थाना खोलने की बात हो. संगीता कालिया ने इन मुद्दों पर खूब काम किया जिसने उन्हें आम जनता के बीच लोकप्रिय बना दिया.

Comments

comments