संघर्ष का नाम हैं नारी, साहस की परिभाषा का नाम हैं नारी . .

यह पंक्तियाँ केरल की एक आईपीएस अधिकारी पर सटीक बैठती हैं. बलात्कार के केस को हल करने के लिए न केवल आरोपी को दबोच लायी बल्कि सऊदी अरब तक पहुँच गयी. देश की सबसे युवा आईपीएस अफसर में शामिल चेन्नई के कोल्लम की पुलिस कमिश्नर मेरिन जोसेफ ने यह काम करके दिखाया हैं. उनके इस काम की खूब तारीफ हो रही है.

IPS अधिकारी जोसेफ सऊदी अरब से 13 साल के बच्ची के रेप के आरोपी को पकड़ लाने में सफल हुईं. आरोपी का नाम सुनील कुमार भद्रन है. मामला 2017 का बताया जाता है. आरोपी 13 साल की बच्ची से रेप कर सऊदी अरब भाग गया था. आरोपी भद्रन कंपनी में कंस्ट्रक्शन वर्कर था. घटना के बाद से ही ये आरोपी पुलिस की हिट लिस्ट में था.

दरअसल, आरोपी 2017 में छुट्टियां मनाने केरल आया था. उसने दौरान उसने अपने ही दोस्त की भांजी के साथ यौन शोषण किया. बच्ची ने जब परिवार को ये बात बताई, तो उन्होंने पुलिस में जाकर मामला दर्ज करा दिया. पुलिस ने आरोपी के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी किया. हालांकि युवक देश छोड़कर साऊदी भाग चुका था. बच्ची को कोल्लम के कारीडोड़ के सरकारी महिला मंदिर के रेस्क्यू होम में शिफ्ट किया. उसी साल जून 2017 में लड़की ने आत्महत्या कर ली.

sunil kumar
बलात्कार का आरोपी सुनील कुमार

2019 में पुलिस कमिश्नर जोसफ ने कोल्लम में कार्यभार संभाला, तो उन्होंने सबसे पहले महिलाओं और बच्चों से जुड़े मामलों की फाइल मंगवाई. जिसके बाद उन्हें इस केस के बारे में पता चला. इससे पहले इंटरपोल नोटिस इश्यू कर चुकी थी. लेकिन केस में आगे कुछ हो नहीं सका था.

पुलिस कमिश्नर मेरिन जोसेफ ने बताया कि जब उन्हें केस के बारे में पता चला तो उन्होंने उसकी जांच शुरू कर दी. आरोपी 2 साल से फरार था. केरल पुलिस की इंटरनेशनल जांच एजेंस पुलिस के साथ काम कर रही थी. इसके बाद मेरिन सऊदी अरब पहुंची. जहां उन्होंने कागजी कार्रवाई के बाद आरोपी को पकड़ लिया. सुनिल पहला आरोपी है जिसे सऊदी अरब से प्रत्यार्पित कर भारत लाया गया है.

बी पॉजिटिव इंडिया, आईपीएस अधिकारी मेरिन जोसेफ की बहादुरी को सलाम करता हैं और उम्मीद करता हैं कि इस केस के बाद लोगो में पुलिस और प्रशासन का डर अपराधियों में बढ़ेगा.

Comments

comments