देश के सरकारी प्रोजेक्ट कभी भी समय पर पुरे नहीं होते है, जिसके चलते प्रोजेक्ट्स की लागत कई गुना बढ़ जाती है और भारतीय रेल भी इससे अछूती नहीं है. रेलवे क्रासिंग, सबवे, विद्युतीकरण जैसे कई प्रोजेक्ट्स भारतीय रेल में चल रहे है लेकिन सारे प्रोजेक्ट समय पर ख़त्म नहीं होते है.

इंडियन रेलवे से जुड़ी इस उपलब्धि को जानकर कई लोग हैरान हैं. लेकिन पूर्व तटीय रेलवे ने एक गजब का काम कर दिखाया है. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ओडिशा के संबलपुर मंडल में मानव रहित क्रॉसिंग खत्म करने के लिए रेलवे ने महज साढ़े चार घंटे में 6 सब-वे यानी अंडरब्रिज बना डाले. इतने कम समय में 6 अंडरब्रिज बनाने की उम्मीद शायद ही लोगों ने रेलवे से की होगी !

मंडल रेल प्रबंधक जयदीप गुप्ता ने कहा, ‘संबलपुर मंडल में 6 अंडरब्रिज का निर्माण अपने आप में पहला प्रयास है. इस तरह का प्रोजेक्ट पहली बार किया गया क्योंकि यह रेलवे लाइन व्यस्ततम मार्गों में से एक है. तटीय इलाकों में कई मेगा प्रोजेक्ट्स है जिनकी जरूरते भारतीय रेल करता है.

Indian railways
Indian railways

प्रबंधक यह भी बताया कि 6 अंडरब्रिज बनाने में 300 मजदूरों, 12 क्रेनों और 20 एक्सवेटर्स की मदद ली गई. रेलवे ने एक अंडरब्रिज बनाने के लिए पहले से बने हुए 7 कंक्रीट के बॉक्स नुमा ढांचों का सहारा लिया. ये अंडरब्रिज 4.15 मीटर ऊंचे हैं. कुल 42 ऐसे बॉक्स से सभी अंडरब्रिज बनाए गए हैं.

 


रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट कर रेलवे की इस उपलब्धि की जानकारी दी. उन्होंने लिखा कि भारतीय रेलवे ने 5 घंटे से भी कम समय में सब-वे बनाए। रेलवे ने रफ्तार का नया कीर्तिमान स्थापित किया है.

इससे इतना तो साबित होता है कि अगर रेलवे चाहे तो कुछ भी कर सकती है. देश में काम करने की नियत हो तो कई रिकार्ड्स बन सकते है. लेट-लतीफी के चलते प्रोजेक्ट्स सालों-साल अटक जाते है लेकिन इस तरह के प्रयास देश के इंजीनियर्स और सरकारी विभागों में विश्वास जगाते है.

Comments

comments