देश में अभी गर्मी का प्रकोप चल रहा हैं. बढ़ाते तापमान एवं गर्म हवाओं ने आम जनजीवन अस्त-व्यस्त कर रखा हैं. ऐसा ही कुछ हाल मध्यप्रदेश के उमरिया जिले का भी हैं. इस भीषण गर्मी में कलेक्टर साहब की एक सकारात्मक खबर जरूर राहत भरी हैं.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस तपती-जलती गर्मी में जब अफसर AC के बगैर एक पल नहीं रह पाते. उस गर्मी में कलेक्टर ने अपने दफ्तर के एसी और कुलर को निकलवाकर बच्चों के अस्पताल में लगवा दिया. ये कमाल का काम किया है मध्यप्रदेश के उमरिया जिले के युवा कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी(Swarochish Somavanshi) ने. दरअसल जिला अस्पताल में बच्चों का पोषण पुनर्वास केंद्र हैं, जहां कुपोषित बच्चों की देखरेख होती है, उनका इलाज होता है और उन्हें दवाईयां देकर सामान्य बनाया जाता है.

 

उन्होंने बताया कि ब्लॉक में चार एनआरसी बिल्डिंग है. जो गर्मियों में बिल्कुल तप जाती है. जिससे वहां मौजूद बच्चों को काफी परेशानियां झेलनी पड़ती है. गर्मी में रहने की वजह से उनकी तबीयत खराब होने की संभावना बनी रहती है. दरअसल, उमरिया जिले के पोषण पुनर्वास केन्द्रों (NRC) में गर्मी के चलते कुपोषित बच्चे बेहाल थे. हालांकि कलेक्टर ने इन केन्द्रों में AC लगाने निर्देश जारी कर दिए थे, लेकिन AC लगाने में देरी हो रही थी.

ऐसी स्थिति में कलेक्टर सोमवंशी ने तत्काल निर्णय लेते हुए अपने चैंबर और ऑफिस हॉल के AC निकालकर पुनर्वास केन्द्रों में लगाने के आदेश जारी कर दिए. उल्लेखनीय है उमरिया प्रदेश सर्वाधिक गर्म जिलों में से एक है.


उमरिया के कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी ने कहा, “ये अचानक से लिया गया फैसला था, एनआरसी बिल्डिंग के अंदर सचमुच में काफी गर्मी थी, हमलोग एसी अरेंज कर रहे हैं, लेकिन हमने महसूस किया कि एसी को तुरंत लगाने की जरूरत है, क्योंकि वहां बच्चे थे, एनआरसी में 4 ब्लॉक हैं, हमने सभी में एसी लगवा दिया है.”

बी पॉजिटिव इंडिया, मध्यप्रदेश के उमरिया जिले के कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी के कार्यों की सराहना करता हैं. उम्मीद हैं आप से प्रेरणा लेकर अन्य लोग भी तपती गर्मीं में लोगों की सहायता करेंगे.

Comments

comments