जब भी आप सड़क या पार्क में टहल रहे होते है तो आपको पॉलिथीन बैग्स इधर-उधर पड़े दिख जाते है । स्वच्छ-भारत अभियान और विभिन्न आयोजनों के बाद भी भारत में सबसे बड़ी समस्या प्लास्टिक कचरा और गन्दगी ही है । टीवी और न्यूज़ पेपर हमेशा पर्यावरण सरंक्षण की ख़बरों से अटे पड़े रहते है लेकिन ठोस कदम नहीं उठाये जाते है क्योंकि अभी तक हमारी मानसिकता में स्वच्छता और उसके फायदों के बारे में सही आकलन करने की क्षमता नहीं है ।

स्वार्थवश या आलस्य के कारण हम स्वयं पर्यावरण में होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार है , आज हम एक ऐसे युवा उद्यमी के बारे में बात कर रहे है जो पर्यावरण को साफ -सुथरा बनाने के लिए बीड़ा उठा चुकी है जिनका नाम है हर्षा शर्मा (Harsha Sharma)। हर्षा अभी पर्यावरण सरंक्षण के लिए एक कंपनी चला रही है जो इको-फ्रेंडली प्रोडक्ट्स बेचती है ।

यह भी पढ़ेपर्यावरण और किसानों को आत्महत्या से बचाते युवा उद्यमी की दिलचस्प कहानी

मुंबई की रहने वाली हर्षा ने अपने प्रतिदिन के अनुभव के बाद पर्यावरण को बचाने के लिए कुछ करना चाहती थी और इसी की चलते उन्हें इको-फ्रेंडली सामान बेचने का आईडिया आया । शुरुआती दौर में हर्षा ने विभिन्न समाज सेवियों से मुलाकात के साथ ही प्रदर्शनियों एवं सेमिनार्स में हिस्सा लिया और पर्यावरण बचाने के लिए रिसर्च में जुट गयी ।

अपने रिसर्च के दौरान हर्षा ने पाया कि बहुत सारे संघठन और लोग थे जो अपनी व्यक्तिगत क्षमता से पर्यावरण के सरंक्षण में सहयोग कर रहे थे तथा बाजार की सबसे बड़ी समस्या ये थी कि लोगो कि पास अपने इको-फ्रेंडली प्रोडक्ट्स बेचने के लिए एक प्लेटफार्म नहीं था ।

यह भी पढ़े : ई-कॉमर्स के दौर में भी लोग जिनकी दुकान पर रात भर लाइन में खड़े रहते है

हर्षा ने इसी समस्या को हल करने की सोची और एक ऑनलाइन पोर्टल बनाया जिस पर आम उपभोक्ता उत्तम गुणवत्ता के प्रोडक्ट्स वाजिब दाम में खरीद सकते है । हर्षा ने विभिन्न स्वयं सहायता समूहों को अपने पोर्टल से जोड़ा और कई प्रकार के इको-फ्रैंडली प्रोडक्ट्स की रेंज तैयार की ।

Harsha Sharma
Greenfare Products

हर्षा ने ग्राहक और मैन्युफैक्चरिंग यूनिट के बीच की खाई को समाप्त कर दिया जिससे ग्राहकों और उत्पादकों दोनों का फायदा होने लग गया और इससे हर्षा के मुख्य : उद्देश्य जो कि पर्यावरण सरंक्षण था वो भी पूरा हो रहा था ।

यह भी पढ़े : राजस्थान के छोटे से गांव से निकले IIT टॉपर की कहानी

हर्षा ने “Greenfare” नाम से एक ऑनलाइन पोर्टल बनाया जो विभिन्न Areca Leaf  and Bagasse से निर्मित प्रोडक्ट्स बेचते है  जिनमे फ़ूड कंटेनर, मल्टीपल डिज़ाइन के फ़ूड प्लेट्स के साथ ही कागज से निर्मित प्रोक्ट्स है। वाजिब दाम और उच्च गुणवत्ता के कारण हर्षा का आईडिया चल निकला और अभी इनकी कंपनी मुनाफे में चल रही है ।

प्राचीन भारत में हरी पत्तियों से प्लेट और कटोरे बनाने का प्रचलन था जिससे भोजन और पानी पिया जा सकता था लेकिन हर्षा के मन में एक सवाल था कि क्या परिष्कृत और आधुनिक मशीन से हरी / पौधे सामग्री से भोजन परोसने के लिए प्लेट बन सकती हैं? और इसका हर्षा को हाँ में जवाब मिला । Greenfare ने ऐसे इको-फ्रैंडली प्रोडक्ट्स बनाये जो लीक-प्रूफ होने के साथ ही दिखने में डिज़ाइनर और मजबूत थे जिन्हे आसानी से प्रतिदिन उपयोग में लाया जा सकता है ।

यह भी पढ़ेकिसान परिवार से निकल कर राजस्थान बोर्ड के चैयरमेन बनने तक का सफर

पेशे से मार्केटर और अच्छी वक़्ता रही हर्षा ने पर्यावरण सरंक्षण के लिए आधुनिक मशीनो के उपयोग से कई प्रोडक्ट्स तैयार करके समाज में मिसाल कायम की है । Be Positive  हर्षा के इस जज्बे को सलाम करता है  तथा सफलता के लिए शुभकामनाए देता है ।

Greenfare के इको-फ्रैंडली प्रोडक्ट्स खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे ।

Comments

comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.