जब भी देश में CBSE या राज्य बोर्ड्स का रिजल्ट घोषित होता है तो ज्यादातर प्राइवेट संस्थानों के बच्चे ही टॉप करते है लेकिन राजस्थान बोर्ड के परिणामों में कुछ अलग देखने को मिला. कई सालों बाद सरकारी स्कूल की विद्यार्थी ने राज्य बोर्ड टॉप किया है.

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के 12वीं कला परीक्षा परिणाम जारी हो गए हैं. इसमें श्रीगंगानगर जिले के जोरावरसिंहपुर के सरकारी स्कूल की छात्रा गीता जयपाल ने 99.40 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं. अभी तक सामने आए परिणाम और छात्र-छात्राओं के प्राप्तांक के अनुसार गीता राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड 12वीं कला वर्ग परीक्षा-2019 की टॉपर बताई जा रही है.

geeta marksheet
गीता जयपाल की अंकतालिका

सरकारी स्कूल, राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल जोरावरसिंहपुर की छात्रा गीता जयपाल ने 500 में से 497 अंक हासिल किए हैं. गीता जयपाल अपने गांव से करीब तीन किमी दूर राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय जोरावरसिंहपुरा में पढऩे जाती थी। गीता के पिता मंगलाराम जयपाल दर्जी और माता संगीता जयपाल गृहिणी है। महज चार बीघा जमीन है, जिसमें से दो बीघा बारानी है।  गीता पढ़ाई के साथ-साथ घर के काम में भी हाथ बंटाती है। 

गीता ने बताया कि वह दो घंटे नियमित पढ़ती थी और स्कूल जाती थी। पढ़ाई का समय निश्चित नहीं था। सोशल मीडिया का कभी उपयोग ही नहीं किया। गीता ने सफलता का श्रेय माता-पिता और शिक्षकों को दिया है। वह आइएएस बनना चाहती है।  

पूरे साल हम प्राइवेट स्कूल की प्रशंसा करते है लेकिन जब परिणाम का समय आता है तो उस वक्त सरकारी विद्यालयों के लिए शब्द कम पड़ जाते है. सीमित संसाधनों और शिक्षकों की कमी के बावजूद सरकारी स्कूल के बच्चों का प्रदर्शन काबिलेतारीफ है. इस बात में कतई संकोच नही की प्रतिभाएं सरकारी विद्यालय से निखरती है लेकिन भौतिक युग और शिक्षा के बाज़ारीकरण के चलते सरकारी स्कूली व्यवस्था को हाशिए पर डालने की कोशिश की गयी है.

Comments

comments