देश में कई भाषा एवं बोलियां बोली जाती है. हर क्षेत्र की अपनी भाषा एवं संस्कृति है और उनकी पहचान है. ग्रामीण अंचल में लोगो को अंग्रेजी भाषा को लेकर क्रेज़ रहता है लेकिन दुनिया की बदलती परिस्थितियों में देश की स्थानीय भाषाओं की भी मांग बढ़ी है.

एक सर्वे के अनुसार देश में अगले पांच सालों में स्थानीय भाषा में इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों की संख्या पचास फीसदी तक हो जाएगी. इसी कड़ी में बॉलीवुड में फिल्म अभिनेताओं को फिल्म में स्थानीय भाषा का प्रयोग करने के लिए ट्रेनिंग का क्रेज बढ़ता जा रहा है. हिंदी के साथ ही भोजपुरी, बंगाली, गुजराती एवं मराठी भाषाओं की मांग बढ़ती जा रही है.

ऋतिक रोशन की नयी फिल्म ‘सुपर 30बिहार के पटना शहर के प्रसिद्ध शिक्षक आनंद कुमार के ऊपर आधारित हैं. इन्होने इस फिल्म में ठेठ बिहारी भाषा का इस्तेमाल किया हैं. इसके लिए बाकायदा उन्होंने कई महीने बिहार की स्थानीय भाषाओं की ट्रेनिंग ली. ऋतिक रोशन को ट्रेनिंग देने वाले हैं बिहार के भागलपुर के गणेश कुमार.

गणेश कुमार बिहार के भागलपुर में रहने वाले हैं और फिल्म ‘सुपर 30‘ में इंस्पेक्टर का रोल भी निभा रहे हैं. 18 महीने तक गणेश ने ऋतिक राेशन काे बिहारी लहजा और उच्चारण का प्रशिक्षण दिया. इसके लिए बाकायदा क्लास और टेस्ट भी लिया.

super 30
ऋतिक रोशन ‘सुपर 30 ‘ में आनंद कुमार की भूमिका निभा रहे हैं

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, गणेश बताते हैं कि अब ताे ऋतिक बात-बात पर पूछते हैं मजा आया कि नहीं? काेई अच्छी अदाकारी देखने पर बाेल पड़ते थे, “आज ताे धमगज्जड़ परफाॅर्मेंस दिए हैं.”

गणेश आगे बताते हैं कि ‘‘ऋतिक को शुरुआत में बिहारी सीखने में दिक्कत हो रही थी. हालांकि बाद में उन्होंने तेजी से सींखना शुरू किया. उन्हें सिखाया कि कैसे रविवार को रविबार बोलना है. एक दो तीन चार पांच छह नहीं एक दू तीन चार पांच छौ बोलना है. उन्हें कैल्कुलेशन को कलकुलेसन और वोकैबलरी को भोकैबलरी कहना है.’’ ऐसा कहा जा रहा है कि गणेश अब ऋतिक को हिंदी की बारीकियां भी सिखा सकते हैं.

गणेश ने बताया कि बिहार में नुक्ते का इस्तेमाल नहीं होता. अंग्रेज़ी को अंगरेजी कहते हैं. ये सब सिखाते-सिखाते मैंने उन्हें बिहार की सभी बोलियां थोड़ी-थोड़ी सिखा दीं. अब वे भोजपुरी, मगही, मैथिली, अंगिका, बज्जिका के भी शब्द जान गए हैं.
आपको बता दे कि बिहार के भागलपुर के सुरखीकल के गणेश धड़क, तुम्हारी सुलू, बुलेट राजा, जाैली एलएलबी टू, नील बटे सन्नाटा, इंदू सरकार, हाेटल मुम्बई समेत 11 फिल्माें में एक्टिंग कर चुके हैं. इसके अलावा डायना पेंटी समेत कई एक्टर्स काे हिंदी बाेलने का प्रशिक्षण दे चुके हैं. वह एफटीआईआई पुणे के छात्र रहे हैं.

अगर आप भी भाषा की अच्छी पकड़ रखते हैं तो आपके लिए भी रोज़गार के नए अवसर खुल सकते हैं.

बी पॉजिटिव इंडिया, गणेश कुमार की प्रतिभा की प्रशंसा करता हैं और उम्मीद करता हैं कि आप से प्रेरणा लेकर देश के युवा स्थानीय भाषा में रोजगार के नए मौके तलाशेंगे !

( मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित )

Comments

comments