चित्र साभार : indiaweb2

कहते है कि अगर मिल कर काम किया जाये सफल होना आसान होता है क्योंकि जब दो से ज्यादा हाथ एक ही आईडिया और लक्ष्य की तरफ कार्य करते है तो संघर्ष और मेहनत कम हो जाती है तथा जल्दी से सफल हुआ जा सकता है । एक यूनिक आईडिया कैसे समाज तथा देश को बदल सकता है वो हम कई उदाहरणों से समझ सकते है ।

राजस्थान के थार रेगिस्तान से निकला एक छोटा सा आईडिया एक बड़ी फर्नीचर कंपनी का रूप ले चूका है और 5 लाख से शुरू हुए कंपनी की वैल्यू मात्र 2 साल में 60 करोड़ रुपये तक पहुंच गयी । इस कंपनी का नाम है ” वुडेन स्ट्रीट (Wooden Street)” जो अपने तरह की पहली मेक इन राजस्थान कंपनी बन चुकी है जो प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगभग 5000 लोगों को रोजगार दे रही है ।

यह भी पढ़े : मिलिए दो भाइयों से जिन्होंने मिलकर शिक्षा के क्षेत्र में क्रांति ला दी

लोकेन्द्र ने अपने तीन दोस्तों से मिलकर जून 2015 में जोधपुर से एक ऑनलाइन फर्नीचर पोर्टल लांच किया जो आज दो साल बाद भारत के टॉप फाइव फर्नीचर कम्पनीज में शुमार हो गयी है । उनके आईडिया ने बड़े-बड़े इंडस्ट्री लीडर्स को सोचने पर मजबूर कर दिया ।

लोकेन्द्र ने अपने लम्बे समय से दोस्त रहे दिनेश प्रताप, वीरेंद्र एवं विकास के साथ मिलकर Wooden Street की स्थापना राजस्थान के जोधपुर में की । चारों दोस्त अलग-अलग क्षेत्रो में काम कर चुके थे लेकिन सभी को लगा कि फर्नीचर उद्योग में काफी संभावनाए है क्योकिं इस क्षेत्र में अभी तक कस्टम फर्नीचर का फॉर्मूला नहीं आया था तो उन्होंने 5 लाख के शुरुआती निवेश के साथ कंपनी शुरू करने का फैसला किया ।

यह भी पढ़े : पर्यावरण और किसानों को आत्महत्या से बचाते युवा उद्यमी की दिलचस्प कहानी

सभी दोस्तों ने अपने व्यक्तिगत अनुभवों के आधार पर कंपनी में काम करना शुरू कर दिया , लोकेन्द्र जो आईटी इंडस्ट्री में 10 साल से ज्यादा समय तक काम कर चुके थे उन्होंने कंपनी के ऑनलाइन पोर्टल और डिजिटल मार्केटिंग को अपने हाथ में लिया और चंद महीनों में ऑनलाइन पोर्टल को यूजर के लिए बेहतरीन बना दिया ।

शुरू के तीन महीनों में लगभग 100 ऑर्डर्स मिले, उनको पूरा करने के लिए उन्होंने लगभग 30 वेंडर्स के साथ काम करते हुए अपनी खुद की सैंपलिंग यूनिट जोधपुर में स्टार्ट कर दी । ऑर्डर्स को टाइम पर पहुंचाने एवं सप्लाई-चैन को दुरुस्त करने का जिम्मा उठाया दिनेश प्रताप ने जो कि लगभग आठ साल तक विभिन्न बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम कर चुके थे ।

फाइनेंस और मार्केटिंग का काम वीरेंद्र और विकास ने मिल कर संभाल लिया और उन्होंने कंपनी के विस्तार के लिए काम शुरू कर दिया और देखते ही देखते एक साल के अंदर वुडेन स्ट्रीट के पास लगभग 10 शहरों में डिलीवरी सेण्टर बन चुके थे और उनकी टीम भी लगभग 70 के आसपास पहुँच चुकी थी ।

यह भी पढ़े : मंदी के दौर में नौकरी खोने के बाद विदेश में करोड़ों की कंपनी बनाने का सफर

आज दो से अधिक वर्षों के बाद Wooden Street में 110 से ज्यादा कर्मचारी काम कर रहे है और लगभग 10000 लोग प्रतिदिन उनके पोर्टल पर विजिट करते है । उसके साथ ही लगभग 500 से ज्यादा वेंडर्स Wooden Street से जुड़ चुके है और जयपुर में एक और मैन्युफैक्चरिंग यूनिट की स्थापना हो चुकी है ।

Wooden Street की एकमात्र रेसेपी है कि आप अपने घर की आवश्यकता के अनुसार अपने लिए फर्नीचर डिज़ाइन कर सकते है । इसके लिए आपको Wooden Street को कांटेक्ट करके अपनी कस्टम डिज़ाइन के बारे में बताना होता है , फिर Wooden Street के एक्सपर्ट आपके लिए फर्नीचर डिज़ाइन करके आपको डिज़ाइन बताते है । कन्फर्मेशन के बाद यह डिज़ाइन Wooden Street के स्टेट-ऑफ़-आर्ट मैन्युफैक्चरिंग यूनिट में तैयार होने के लिए भेज दिया जाता है ।

यह भी पढ़े : पर्यावरण के साथ ही गरीब महिलाओं के उत्थान के लिए कार्य करती युवा फैशन डिज़ाइनर

मैन्युफैक्चरिंग यूनिट में उत्तम दर्जे के कच्चे माल से कस्टम डिज़ाइन प्रोडक्ट्स तैयार किये जाते है और कई लेवल के टेस्ट से गुजरने के बाद पैकेजिंग की जाती है और ग्राहक के घर पर इंस्टालेशन के लिए भेज दिया जाता है । इसके आलावा ऑन-कॉल सपोर्ट, फ्री डिलीवरी , EMI बेस्ड पेमेंट के अलावा ग्राहकों को कई सहूलियतें दी जाती है ।

कस्टमर सटिस्फैक्शन और फीडबैक को सबसे ऊपर माना जाता है जिससे आज कंपनी इतना बड़ा स्वरुप इतने कम समय में ले पायी है । ग्राहकों की संतुष्टि एवं उच्च गुणवत्ता के प्रोडक्ट्स वूडेन्स्ट्रीट के डीएनए में है ।

यह भी पढ़े : सरकारी नौकरी छोड़कर खेतीबाड़ी करके करोड़पति बनने वाले युवा उद्यमी

लोकेन्द्र और उनके दोस्तों के छोटे से बीज ने आज वट वृक्ष का रूप ले लिया है और आज वो इंडस्ट्री लीडर से मुकाबला करने के साथ ही उनके समकक्ष खड़े है । दोस्तों के अलग-अलग क्षेत्र के अनुभवों ने Wooden Street की सफलता में महत्वपूर्ण योगदान दिया और हम सभी को “संगठन में ही शक्ति है”  का पाठ पढ़ा दिया है ।

Comments

comments

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.