लोजिस्टिक्स क्षेत्र में एक कंपनी में असफलता मिलने के बाद दो दोस्तों ने हार मानने के बजाय एक नयी कंपनी शुरू करने की योजना बनाई । पिछली असफलताओं से सीख लेते हुए इस बार उन्होए मार्केट की बारीकी से जाँच पड़ताल की । कंपनी में टेक्नोलॉजी के बेहतरीन उपयोग के लिए उन्होंने एक अन्य टेक्नो एक्सपर्ट को अपने साथ लिया । इसके बाद उन्होंने फ़ूड डिलीवरी के क्षेत्र में कदम रखा तथा आज करोड़ो रुपये की कंपनी खड़ी कर दी । भारत के खाने के अनुभव एवं फ़ूड डिलीवरी को बदलने वाली कंपनी का नाम है : SWIGGY और इस के संस्थापक सदस्य है राहुल जैमिनी (Rahul Jaimini ), श्रीहर्ष मजेटी (Sriharsha Majety) और नंदन रेड्डी (Nandan Reddy)।

स्विग्गी आज भारत की नंबर वन फ़ूड डिलीवरी प्लेटफार्म है जिसके माध्यम से कोई भी अपने घर पर बैठकर गरमा-गर्म खाना मंगवा सकते है । बेंगलुरु से शुरू हुई इस कंपनी ने भारत के अन्य शहरों में भी अपना विस्तार करना शुरू कर दिया है । अभी देश के 11 शहरों में स्विग्गी अपनी सुविधाए देती है । उनके पास लगभग 1000 से ज्यादा डिलीवरी एग्जीक्यूटिव की मजबूत टीम है तथा शहरों के सभी मुख्य रेस्टोरेंट से जुड़े हुए है ।

यह भी पढ़ेउधार के लिए पैसे से ट्रक खरीद कर 2000 करोड़ की ट्रांसपोर्ट कंपनी बनाने वाला उद्यमी

मजेटी और नंदन जो कि BITS पिलानी से ग्रेजुएट है , ने 2014 में अपनी लोजिस्टिक्स कंपनी बंद कर दी थी । उस समय मार्केट में बनी अनिश्चितता के कारण उन्हें अपनी कंपनी को बंद करना पड़ा । एक कंपनी के बंद होने के बाद उन्होंने फ़ूड डिलीवरी के लिए एक कंपनी खोलने के बारे में योजना पर काम करना शुरू कर दिया । इसी बीच राहुल जैमिनी जो कि ऑनलाइन फैशन ब्रांड Myntra में सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में काम कर रहे थे , से मजेटी एवं नंदन की मुलाकात हुई । तीनो ने मिलकर मार्केट रिसर्च के बाद अगस्त 2014 में स्विग्गी की शुरुआत बैंगलोर से कर दी ।

swiggy-office
स्विग्गी के ऑफिस में काम करते कर्मचारी

स्विग्गी की शुरुआत में उन्होंने रेस्टोरेंट के मालिकों से अपनी अप्लीकेशन एवं प्लेटफार्म उपयोग करने के लिए कहा । शुरुआती कुछ दिनों की टेस्टिंग के बाद उन्होंने लोजिस्टिक्स कंपनी का अनुभव को उपयोग में लेते हुए एक शानदार डिलीवरी नेटवर्क खड़ा करने का प्लान बनाया । आर्डर से लेकर डिलीवरी तक का पूरा काम स्विग्गी ने अपने हाथ में लिया जिसके कारण ग्राहकों एवं रेस्टोरेंट – मालिकों को बहुत फायदा होने लगा । रेस्टोरेंट मालिकों को जहाँ नए ग्राहक मिल रहे थे तथा साथ ही फ़ूड डिलीवर करने की भी समस्या नहीं हो रही थी । उनके रेस्टोरेंट को उनके क्षेत्र के साथ ही आसपास के क्षेत्रों में भी पहचान बनने लगी ।

यह भी पढ़ेलाखों के कर्जे के बाद देश की बड़ी डिजिटल मीडिया कंपनी बनाने वाले शख़्स का सफर

ग्राहकों को भी अपने मनपसंद रेस्टोरेंट से गरमा-गर्म खाना उनके घर के दरवाजे पर मिल रहा था जिससे उनको गजब के स्वाद के साथ ही रेस्टोरेंट के चक्कर काटने से भी मुक्ति मिल गयी । स्विग्गी और उनकी टीम ने इसी का फायदा उठाते हुए एक जबरदस्त डिलीवरी एवं रेस्टोरेंट नेटवर्क कुछ ही समय में खड़ा कर दिया । स्विग्गी ने दोनों तरफ से अपना कमिशन रखा जिसमे रेस्टोरेंट को लीड जनरेशन तो ग्राहकों को होम डिलीवरी के लिए चार्ज किया जाता है ।

इस तरह मजेटी और नंदन का फ़ूड डिलीवरी का आईडिया चल निकला और शुरुआत में इस क्षेत्र में ज्यादा प्रतिस्पर्धा भी नहीं थी जिसका फायदा उन्होंने बाहर उठाया । आक्रामक मार्केटिंग एवं विस्तार योजना पर काम करते हुए उन्होंने बैंगलोर से बाहर भी अपने पैर पसारने शुरू कर दिए । अब तक वो देश के सभी प्रमुख शहरों को स्विग्गी से जोड़ चुके है और उन्हें घर पर शानदार भोजन देने का काम कर रहे है ।

food-delivery in india
देश के फ़ूड डिलीवरी मार्केट में तीन मुख्य लीडर्स : स्विग्गी, जोमाटो और फूडपांडा

स्विग्गी की सफलता ने मार्केट में भी हलचल पैदा कर दी तथा कई बड़े ऑनलाइन मार्केटिंग प्लेयर भी इस क्षेत्र में उतर गए जिनमे फूडपांडा, फ्रेशमेनु , जोमाटो एवं उबेर इट्स प्रमुख है । स्विग्गी ने उच्च गुणवत्ता और समय पर डिलीवरी देने के कारण अभी तक अपने ग्राहकों पर अच्छी पकड़ बना रखी है । 50 अरब से ज्यादा रेस्टोरेंट एवं खाद्य बजार में स्विग्गी ने अपनी मजबूत उपस्थिति दर्ज करवाई ।

स्विग्गी की सफलता को देखते हुए कई देशी एवं विदेशी निवेशकों ने इस कंपनी में निवेश किया है । स्विग्गी को अभी तक कुल $75.5 मिलियन की फंडिंग मिली है जिनमे देश और videsh के जाने-माने निवेशक शामिल है यथा : Bessemer Venture Partners, Norwest Venture, Accel Partners, SAIF Partners, Harmony Venture Partners, RB Investments and Apoletto । निवेशकों से मिली फंडिंग का उपयोग स्विग्गी ने नए शहरों में विस्तार एवं नयी टेक्नॉलजी में निवेश में कर रही है । 2014 में शुरू हुई स्विग्गी आज देश के महानगरों में दैनिक दिनचर्या का हिस्सा बन चुकी है ।

swiggy-work
स्विग्गी की कार्य-पद्धति

फूड डिलीवरी कंपनी स्विग्गी (Swiggy) को देश में स्टार्टअप्स के लिए सबसे बड़े और बेहतरीन अवॉर्ड्स द इकनॉमिक टाइम्स स्टार्टअप अवॉर्ड्स 2017 में अव्वल दर्जा हासिल हुआ। उसे उन कंपनियों की कतार में रखा गया, जो तकनीक और उद्यमिता के मामले में अपनी आला दर्जे की काबिलियत के लिए जानी जाती हैं। इसी के साथ उन्हें  फ़ोर्ब्स मैगज़ीन ने 2017 के Forbes 30 under 30 India सूची में शामिल किया है । इसके अलावा भी उनको कई अन्य उद्यमिता पुरुस्कारो से नवाजा जा चूका है ।

Be Positive, Swiggy और उनकी पूरी टीम को शुभकामनाए देती है और उम्मीद करती है कि आपसे प्रेरणा लेकर हमारे पाठक जीवन में कुछ सकारात्मक करेंगे ।

यह भी पढ़ेदोस्तों से उधार लेकर भारत की कोल्ड ड्रिंक इंडस्ट्री को बदल देने वाला उद्यमी

यह भी पढ़ेहर तीसरा भारतीय इनका प्रोडक्ट इस्तेमाल करता है लेकिन आप इन्हे नहीं जानते है

यह भी पढ़े : किसान के बेटे से अरबों रुपये का बिज़नेस साम्राज्य खड़ा करने वाला उद्यमी

Comments

comments