प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रोग्राम ‘मन की बात’ से प्रेरणा लेकर कई लोगो ने अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव किये है. किसी ने स्वावलम्बी बनते हुए खुद का बिज़नेस शुरू किया तो किसी ने समाज सेवा का संकल्प लिया.

इसी लिस्ट में अब एक और नाम जुड़ गया है. उत्तर प्रदेश के मेरठ की रहने वाले छह वर्षीय ईहा दीक्षित ने पर्यावरण सरंक्षण के लिए काम करने की ठानी. उन्होंने अपने पांचवे जन्मदिन पर 1008 पौधे लगाए तो छठे जन्मदिन पर 2500 पौधे लगा चुकी है.

पर्यावरण सरंक्षण के अद्भुत कार्य को आगे बढ़ाते हुए इहा हर रविवार को दस पौधे लगाने का काम कर रही है. वो अपने दोस्तों के जन्मदिन पर भी उन्हें गिफ्ट के रूप में पौधे देती है और उन्हें पर्यावरण सरंक्षण के लिए प्रेरित करती है.

उनके इसी नेक काम के लिए उन्हें इस बार के राष्ट्रीय बाल पुरुस्कार से सम्मानित किया गया. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 22 जनवरी 2019 को राष्ट्रपति भवन में मेरठ की ईहा दीक्षित को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय बाल पुरस्कार 2019 से सम्मानित किया.

अपने स्कूल के प्रिंसिपल से अवार्ड लेती ईहा दीक्षित

आपको बता दे कि देश का यह सर्वोच्च बाल पुरस्कार नवाचार, शैक्षिक, खेल, कला-संस्कृति, समाजसेवा और बहादुरी के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए दिया जाता है. पुरस्कृत बच्चे 26 जनवरी को राजपथ पर होने वाली गणतंत्र दिवस परेड में भाग लेंगे.

मेरठ के जागृति विहार निवासी ईहा दीक्षित ने यह पुरस्कार पापा कुलदीप शर्मा, मम्मी अंजली शर्मा व छोटी बहन एशल की उपस्थिति में प्राप्त किया. पुरस्कार में ईहा को स्वर्ण पदक, एक लाख रुपये नकद, दस हजार रुपये के बुक वाउचर, प्रमाणपत्र व स्मृति चिह्न प्रदान किया गया.

24 जनवरी को ईहा सहित सभी बच्चे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने सेवन रेसकोर्स उनके आवास जाएंगे. जिसमें ईहा संग पीएम व अन्य बच्चे वहां पौधे लगाएंगे.

नेशनल रिकॉर्ड सर्टिफिकेट के साथ ईहा दीक्षित

ईहा ने ‘ग्रीन ईहा स्माइल क्लब‘ नाम से एक ग्रुप बनाया है, जिसमें उसके छह दोस्त भी शामिल हैं. चार साल आठ माह की आयु में क्लब बनाने वालीं ईहा हर रविवार पौधे लगाती हैं. इनामी राशि से ईहा अपने ग्रीन ईहा स्माइल क्लब को संचालित करने के साथ पौधे खरीदेंगी.

ईहा दीक्षित यूपी बुक ऑफ रिकॉर्ड, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड, वर्ल्ड रिकॉर्ड यूनियन के द्वारा जारी रैकिंग में टॉप 100 रैकिंग में है. एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड के लिए भी चुनी गईं हैं, जो गुरुग्राम में मिलेगा. यूकेजी में पढ़ रही ईहा की उपलब्धियों को अलजजीरा चैनल भी दिखा चुका हैं.

Comments

comments