इस दुनिया में कुछ भी असंभव नहीं हैं, हम वो सब कर सकते है, जो हम सोच सकते है.

यह पंक्तियाँ 17 वर्षीय यूट्यूबर पर सटीक बैठती हैं. जिस उम्र में बच्चे अपनी पढाई को लेकर चिंतित रहते हैं, उस उम्र में इस लड़की ने यूट्यूब के जरिये लोगो की समस्याए सुलझाने का काम शुरू किया. शुरुआती दौर में विफलता मिली लकिन हार मानने के बजाय दुगुनी ताकत से अपने काम में लग गयी और आज इनको हज़ारो लोग यूट्यूब पर फॉलो करते हैं. इनके द्वारा बनाये गए वीडियोज अब तक लाखो लोग देख चुके हैं. स्मार्टफोन और इंटरनेट के दौर में लोगो की तकनीकी समस्याए हल कर रही हैं दिव्या गंडोत्रा (Divya Gandotra).

17 वर्ष की उम्र में अब तक दो यूट्यब चैनल शुरू कर चुकी दिव्या गंडोत्रा के यूट्यूब चैनल को 28000 से ज्यादा लोग सब्सक्राइब कर चुके हैं. इसके साथ ही वो एक कंटेंट वेबसाइट भी चलाती है जिसके जरिये वायरल न्यूज़ पब्लिश किया जाता हैं. इनके द्वारा बनाये गए कंटेंट को कई लोगो ने सराहा हैं और लगातार कंटेंट की क्वालिटी सुधारने में लगी हुई हैं.

बी पॉजिटिव इंडिया से बातचीत के दौरान दिव्या गंडोत्रा बताती हैं कि मेरा जन्म जम्मू शहर में 5 जून 2002 को हुआ. मुझे मेरी माँ और नानी ने पाला हैं. मेरी नानी ने मुझे हर संभव मदद की और मेरी प्रेरणास्श्रोत हैं. जीवन में कई बार असफल हुई और हर बार असफलता से कुछ न कुछ सींखा हैं. मुझे शुरू से ही कंप्यूटर और सॉफ्टवर्स में दिलचस्पी रही. अभी PIIT नॉएडा से अपनी ग्रेजुएशन कर रही हूँ.

Divya gandotra pics
16 वर्ष की उम्र में यूट्यूब चैनल चलाती हैं दिव्या गंडोत्रा

यूट्यूब की यात्रा के बारे में दिव्या बताती हैं कि मैंने इंटरनेट पर सफल यूट्यूबर्स की कहानियां पढ़ कर खुद का चैनल शुरू किया. मई 2015 में अपना पहला चैनल बनाया और विडिओ बनाने शुरू किये लेकिन आशातीत सफलता नहीं मिली. इसके बाद दोस्तों की मदद से एक बार फिर ‘टेक दिव्या (Tech Divya)‘ नाम से चैनल शुरू किया. इसके बाद लगातार वीडिओज़ बना रही हु और अब तक 28 हज़ार से ज्यादा लोगो ने चैनल सब्सक्राइब किया.

अपने चैनल के जरिये दिव्या गंडोत्रा गैजट्स की जानकारी के साथ ही नए स्मार्टफोन की खूबियों के बारे में बताती हैं. साथ ही रोजमर्रा इस्तेमाल होने वाली मोबाइल एप्लीकेशन की टिप्स एंड ट्रिक्स भी साझा करती हैं.

टेक्निकल केटेगरी में ज्यादा प्रतियोगिता के बारे में दिव्या बताती हैं कि जिओ के आने के बाद भारत में कई लोगो ने यूट्यूब चैनल शुरू किये हैं और लोगो को कई सारे विकल्प मिले हैं. कई चैनल्स हैं जो 10 मिलियन सब्सक्राइबर्स वाले हैं लेकिन सब में एक ही चीज़ कॉमन हैं वो हैं अच्छा कंटेंट. अगर आपका कंटेंट अच्छा होया और नियमित रूप से आप वीडिओज़ पोस्ट करेंगे तो केटेगरी का कम्पटीशन आपके लिए मायने नहीं रखेगा.

दिव्या गंडोत्रा ने कम समय में ही सफलता पायी हैं लेकिन संघर्षों का भी सामना किया. शुरुआती दौर में अच्छे कैमरे और अनुभव की कमी रही तो कभी गूगल एडसेंस अकाउंट ब्लॉक हो गया. कभी चैनल पर व्यूज नहीं मिले तो कभी नेगेटिव रिस्पांस आया लेकिन वो हमेशा अपना काम करती रही. अब उनके साथ कई ब्रांड्स जुड़ चुके हैं जिनके प्रमोशन के जरिये वो कमाई कर रही हैं.

divya gandotra awards
एक अवार्ड समारोह के दौरान दिव्या गंडोत्रा

कम उम्र में उद्यमिता के क्षेत्र में काम करने के चलते उन्हें इंटरप्रेन्योर लाइव नैटवर्क की तरफ से ‘इंडिया यंग अचीवर्स अवार्ड 2019‘ भी मिल चुका हैं. इसके साथ ही उन्हें गूगल वेबमास्टर कॉन्फ्रेंस में भी जाने का मौका मिला जहाँ पर उन्होंने न केवल अपने अनुभव साझा किये बल्कि कई ऑनलाइन काम करने वाले लोगो से भी मिली.

अगर आप भी दिव्या गंडोत्रा के चैनल से जुड़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करे !

बी पॉजिटिव इंडिया, दिव्या गंडोत्रा की सफलता पर बधाई देता हैं और भविष्य के लिए शुभकामनाए देता हैं.

Comments

comments