एक सामान्य छात्र से टॉपर बनना कोई आसान काम नहीं है लेकिन कुछ लोग होते है जो अपनी मेहनत से सफलता के शीर्ष को अपनी तरफ झुका लेते है । अपनी मेहनत के दम पर वो न केवल टॉप करते है बल्कि पढाई में औसत रहने वाले छात्रों के लिए एक आदर्श भी बन जाते है । ऐसी ही कुछ कहानी है राजस्थान के पाली जिले की लूणी तहसील से आने वाले भवानी सिंह चारण (Bhawani Singh Charan) जो राजस्थान प्रशासनिक सेवा परीक्षा – 2016 के टॉपर है ।

यह भी पढ़ेकपड़े के थैले बनाने से लेकर करोड़ो रुपये की कंपनी बनाने वाले उद्यमी की कहानी

पाली के मूल निवासी चारण का आरएएस में यह दूसरा प्रयास था। वर्तमान में लूणी तहसील के सिणली में द्वितीय श्रेणी शिक्षक पद पर पदस्थापित भवानी घर पर ही पढ़ाई किया करते थे। स्कूल में पढ़ाने के बाद वे घर आकर प्रतिदिन छह घंटे अध्ययन करते थे। पढ़ाई के दौरान ही वे शाम को मैदान में जाकर एक-डेढ़ घण्टे क्रिकेट खेला करते थे। उन्होंने मुख्य परीक्षा के लिए केवल टेस्ट सीरिज जॉइन की थी। अन्य किसी भी प्रकार की कोचिंग नहीं की।

चारण ने कहा कि आरएएस में सफलता के लिए मुख्य परीक्षा का अभ्यास करना और इंटरव्यू से पहले मॉक इंटरव्यू देकर तैयारी करना महत्वपूर्ण रहा।

 

यह भी पढ़ेअपना घर बेचकर करोड़ो की कंपनी खड़ी करने वाले दम्पति की कहानी

चारण ने इससे पहले 2013 में आरएएस परीक्षा दी थी। इसमें उनकी 696 रैंक बनी, लेकिन कोई पद नहीं मिल सका। वर्ष 2016 में आई आरएएस भर्ती में उन्होंने फिर से तैयारी की। इस बार प्रथम रैंक मिली। चारण कहते हैं कि उन्हें सफलता का तो पूरा भरोसा था, लेकिन टॉप रहेंगे, इस पर यकीन नहीं हो रहा। चारण ने कहा कि उनका बचपन से ही प्रशासनिक सेवा में जाने का लक्ष्य था। वे आरएएस के समानांतर आईएएस की तैयारी भी कर रहे हैं।

भवानी सिंह स्कूल और कॉलेज में औसत छात्र रहे हैं। दसवीं में उन्होंने 70 फीसदी, 12वीं में 65 फीसदी, बीएससी में 72 फीसदी अंक हासिल करने के बाद उन्होंने बीएड की। सैकेण्ड ग्रेड टीचर एग्जाम में सलेक्शन के बाद वे सिणली में पदस्थापित है। भवानी के पिता प्रकाशदान चारण भी पाली जिले में सरकारी स्कूल में प्रधानाचार्य हैं। माता विमला कंवर गृहणी है ।

यह भी पढ़ेहिंदी माध्यम से IAS टॉप करने वाले युवा के संघर्षों की प्रेरणादायक कहानी

जितेंद्र और आरएएस टॉपर भवानीसिंह चारण दोनों एक साथ ही पढ़ाई किया करते थे। विशेष बात यह है कि आरएएस-2013 में भवानी ने जहां 696वीं रैंक प्राप्त की थी, वहीं जितेंद्र की 635वीं रैंक थी। इस बार भवानी ने पूरी तरीके से बाजी मार ली। जितेंद्र कहते हैं कि उन्हें तो सलेक्शन का भी भरोसा नहीं था। आरएएस सफल अभ्यर्थियों की सूची में नाम देखकर खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा।

इस तरह कहा जा सकता है कि प्रतिभा को अंकों से कभी भी आँका नहीं जा सकता है और किस्मत भी उन्ही लोगों का साथ देती है जो अपना काम पूरी ईमानदारी एवं शिद्दत से करते है ।

यह भी पढ़ेकिसान परिवार से निकल कर IRS बनने तक का सफर

Comments

comments