राहों में कांटे हज़ार होंगे लेकिन मुकाबले भी मज़ेदार होंगे !

यह पंक्तिया मध्यप्रदेश के युवा लेखक पर सटीक बैठती हैं. गंभीर बीमारी के बाद कई सालों तक संघर्ष किया. डिप्रेशन और तनाव को लम्बे समय तक झेला लेकिन उन्होंने हार मानने से इनकार कर दिया. बीमारी के साथ ही अवसाद से लम्बी लड़ाई में न केवल जीत दर्ज की बल्कि आज एक सफल लेखक हैं. अब तक दो किताबे लिख चुके हैं जिन्हे भारत के बड़े प्रकाशकों के प्रकाशित किया. इसी के साथ अपने शौक को यूट्यूब चैनल की शक्ल दी जो आज भारतीय व्यंजनों को बड़े स्तर पर लोगो तक पहुंचा रहा हैं. कभी हार न मानने वाले और युवा लेखक का नाम हैं अनुराग मिश्रा.

अनुराग मिश्रा ने ‘struggle of a star and a beautiful love story‘ और ‘सफलता तय है‘ नाम से दो किताबे लिख डाली हैं. खाना बनाने के शौक को ‘ऋषि की रसोई‘ के जरिये लोगो तक पहुंचा रहे हैं. कभी परेशानी के दौर से गुजरने वाले अनुराग के लिए इतना सब कुछ हासिल करना कभी आसान नहीं था लेकिन अपने मजबूत इरादों से अपने आप को साबित कर पाए.

बी पॉजिटिव इंडिया से बातचीत में अनुराग मिश्रा बताते हैं कि मेरा जन्म मध्य प्रदेश के एक छोटे से कस्बे टीकमगढ़ में हुआ था. बचपन से ही मुझे एक दुर्लभ बीमारी : इम्यून डेफिशियेंसी डिसऑर्डर था. जिसके कारण मेरा हर दिन किसी ना किसी परेशानी से भरा होता था.

anurag mishra book launch
अपनी किताब के साथ अनुराग मिश्रा

जब मैंने बारहवीं पास की तो मेरे पास दो ही विकल्प थे : इंजिनीरिंग या मेडिकल. पर मैं इन दोनो क्षेत्रों में अपना करियर नहीं बनाना चाहता था. मेरी बीमारी मेरी हमसफ़र बन चुकी थी जिसके कारण कहीं ना कहीं मैं गहरे अवसाद में भी था. समाज के दबाव के कारण मैं Clat (प्रतियोगी परीक्षा) की कोचिंग करने के लिए भोपाल चला आया. छोटे से क़स्बे से बाहर निकलने के बाद समझ आया कि बच्चे कम्प्यूटर से तेज थे और मुझे साल भर ऐसे महसूस करवाया गया कि मैं एक बेहद ही कमजोर इंसान हूँ परन्तु मैंने हार नहीं मानी.

बीमारी और अवसाद में रहते हुए भी मेहनत की लेकिन मैं प्रतियोगी परीक्षा में असफल हो गया. उसके बाद और ज्यादा बीमार रहने लगा और मुझे पढाई छोड़नी पड़ी. वो एक साल मेरे लिए बहुत मुश्किल रहा. उस दरमियान बीमारियों ने मुझे घेर लिया और बिस्तर पर पड़े रहने के सिवा कोई विकल्प नहीं था. दो साल की जद्दोजहद के बाद बीमारी और अवसाद से जीतकर दिल्ली यूनिवर्सिटी आ गया.

दिल्ली आने के बाद भी परिस्थितियां नहीं बदली. कमजोर इम्यून सिस्टम तथा दिल्ली शहर के प्रदुषण के कारण श्वास की गंभीर बीमारियों से सामना करना पड़ा. एक बार फिर बीमारियों के जाल में उलझने के कारण गहरे अवसाद मे जा चुका था. अगले दो साल में कई बार मैंने अपना जीवन ख़त्म करने का विचार किया लेकिन समय के साथ-साथ परिस्थितियां बदली और लम्बे संघर्ष के बाद मैंने सारी बीमारियों को मात दे दी.

anurag at josh talks
जोश टॉक्स पर अपनी कहानी सुना चुके हैं अनुराग मिश्रा

बीमारियों को मात देने के बाद जैसे मुझे नया जन्म मिला हो और डिप्रेशन को इतने लम्बे समय तक झेलना काफी मुश्किल रहा. आपने कई सेलिब्रिटीज को थोड़े से समय के डिप्रेशन के करण रोते हुए देखा होगा पर मैंने सोच रखा था कि मैं अन्तिम साँस तक हार नहीं मानूँगा और अंत में मेरे संघर्ष की जीत हुई.

इसके बाद जीवन में कई बदलाव आये और मैंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से फर्स्ट डिवीज़न के साथ ग्रेजुएशन कर लिया जो मेरे लिए कभी नामुमकिन था. इसके बाद मैंने “struggle of a star and a beautiful love story” नाम से अंग्रेजी में एक पुस्तक लिख दी. जिसके लिए इंडियन आवाज़ फाउंडेशन ने मुझे टॉप दस लेखकों में चुना.

अपने अनुभवों और समाज में फैले नकारात्मकता के दौर को हटाने के लिए “सफलता तय है” नाम से मोटिवेशनल बुक लिखी. इस किताब को ‘हिन्द युग्म पब्लिशिंग हाउस‘ ने छपा. इस किताब में मेरे विचार देखने को मिलते हैं जो मैं बीमारियों के दौरान सोचा करता था. अभी मेरी तीसरी पुस्तक पर कार्य कर रहा हूँ.

जीवन संघर्ष के दौरान खुद को जीवित रखने के लिए कुकिंग किया करता था. इसी शौक को अपना काम बनाते हुए हाल ही में “Rishi ki rasoi” यूट्यूब चैनल शुरू किया है. जिस पर हम लगातार कुकिंग एवं स्वास्थ्य से संबधित वीडियोज डाल रहे हैं.

anurag mishra cook
यूट्यूब चैनल के जरिये भारतीय व्यंजनों का प्रचार कर रहे हैं अनुराग

कोचिंग के दौरान अंग्रेजी के कारण मुझे गँवार कहा जाता था लेकिन मैंने मेरी इंग्लिश इतनी अच्छी कर ली है कि मुझे किसी से कहीं भी बात करने मे कोई समस्या नहीं होती, मेरी सफलता में मेरे माता-पिता और परिवार का अद्भुत साथ मिला.

अनुराग कहते हैं कि जीवन में कैसा भी समय हो , वो हमेशा नहीं रहता हैं. अच्छा हो या बुरा हो निकल जाता हैं. खुद पर विश्वास बनाये रखिये और मेहनत करते रहिये आपको सफल होने से कोई नहीं रोक सकता हैं.

अगर आप भी अनुराग मिश्रा से जुड़ना चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करे !

उनकी किताब खरीदने के लिए यहाँ क्लिक करे !

बी पॉजिटिव इंडिया, अनुराग मिश्रा के कभी हार न मानने वाले जज्बे और साहस को सलाम करता हैं और भविष्य के लिए शुभकामनाए देता हैं.

Comments

comments