आज भारत के किसानों की हालत किसी से छुपी हुई नहीं है। लागत में वृद्धि और मौसम पर निर्भरता ने भारतीय किसानों को आर्थिक तौर से कमजोर बना दिया है । अपनी फसल का उचित मूल्य न मिलने और क़र्ज़ में होती बढ़ोतरी के कारण हज़ारों किसान काल का ग्रास बन चुके है ।

इस समस्या के निकारण के लिए सरकार से लेकर विभिन समाजसेवी एवं निजी संस्थाए किसानों के कल्याण के लिए काम कर रही है जो किसानों को जैविक खेती से लेकर आधुनिक तकनीक मुहैया करवाने के लिए प्रयासरत है । ऐसी ही एक संस्था है “किसान सारथी (Kisaan Sarthi)” जो किसानों को जैविक खेती करने के लिए प्रोत्साहन के साथ ही तकनिकी रूप से भी मदद कर रही है ।

यह भी पढ़े : पर्यावरण और किसानों को आत्महत्या से बचाते युवा उद्यमी की दिलचस्प कहानी

किसान सारथी की स्थापना अलीगढ के अलीगढ के अभिषेक वार्ष्णेय (Abhishek Varshney) ने आज से 8 महीने पहले स्थापना की । अभिषेक जो खुद आईटी क्षेत्र में काम कर चुके है तथा कई समाजसेवी संगठनों के साथ काम कर रहे है । अभिषेक के अनुसार “आज कृषि में युवाओं के जुड़ने की बहुत आवश्कता है जो न सिर्फ खेती करें बल्कि एक मजबूत व्यवसाय भी खड़ा करें जो युवाओं को रोजगार भी मुहैया कराये। कृषि न सिर्फ एक व्यवसाय है बल्कि कृषि भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ है ।

six month work Kisaan Sarthi
पिछले छह महीने में किसान सारथी द्वारा किये गए कार्यों का ब्यौरा

आज से करीब 4 महीने पहले अभिषेक ने किसान सारथी (Kisaan Sarthi) नाम से एक कंपनी प्रारंभ किया जिसमे वो किसानों को जैविक खेती (Organic Farming) करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं और कृषि को सम्मानित व्यवसाय से देखने की ओर प्रेरित कर रहे हैं | उन्होंने पिछले 8 महीने में सोशल मीडिया के माध्यम से करीब 80,000 से अधिक किसानों तक अपनी बात पहुचाने में कामयाब हुए है ।

यह भी पढ़े : पर्यावरण के साथ ही गरीब महिलाओं के उत्थान के लिए कार्य करती युवा फैशन डिज़ाइनर

इसके अतरिक्त उन्होंने गाँव-गाँव जाकर किसानों से मुलाक़ात की और उन्हें जैविक खेती से जोड़ने के लिए प्रेरित किया । उनके कुछ मित्रों ने भी उनका इस कार्य में साथ दिया रवि पाठक और विकास चौहान जो उनके साथ किसान सारथी को आगे ले जाने के लिए काम कर रहे हैं ।

25 साल के अभिषेक ने IT क्षेत्र में ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद भी उन्होंने कृषि क्षेत्र में जाने के कारण जॉब न करने का निर्णय लिया जो उनके लिए बहुत मुश्किल और चुनौती भरा निर्णय था । अभिषेक के मुताबिक़ वह एक प्रकृति प्रेमी हैं और टेक्नोलॉजी के माध्यम से खेतीबाड़ी एवं कृषि क्षेत्र में परिवर्तन लाना चाहते है ।

यह भी पढ़े : चार दोस्तों ने मिलकर मात्र 2 साल में करोड़ों रुपये टर्नओवर वाली कंपनी खड़ी कर दी

प्रकृति के संरक्षण के लिए अलग-अलग प्रयास भी करते रहते हैं और वो अपने एक मित्र के NGO (नेचर सर्वर्स) के साथ भी जुड़े हुए हैं जो पिछले 7 वर्षों से प्रकृति के संरक्षण लिए काम कर रही है । पेड़ों और नदियों को बचाना कृषि के लिए भी अत्यंत महत्वपूर्ण है इसके लिए वो हाल ही में हुए सद्गुरु जी के नदी अभियान (Rally for Rivers) को भी बढ़ावा दिया अपने किसान सारथी के माध्यम से भी किसानों को जोड़ने का प्रयास किया ।

अभिषेक के मुताबिक़ उनका उद्देश्य न सिर्फ लोगों को कृषि से जोड़ना बल्कि कृषि को सम्मानपूर्वक अपने प्रथम स्थान पर पुनः लाना भी है जो कि शास्त्रों में कृषि को सबसे उत्कृष्ट स्थान प्राप्त है, हमारे शास्त्रों में कृषि सबसे उच्च कोटि का व्यवसाय माना गया है क्योंकि इससे समस्त प्राणी जगत का कल्याण होता है। अभिषेक का लक्ष्य आने वाले समय में कृषि मे किसानों के लिए उचित और मजबूत व्यवसाय खड़ा करना है और कृषि जगत में रासायनिक खेती को जड़ से खत्म करने का संकल्प लेना है और किसानों को अधिक से अधिक जैविक खेती करने के लिए प्रोत्साहित करना है ।

यह भी पढ़े : सरकारी नौकरी छोड़कर खेतीबाड़ी करके करोड़पति बनने वाले युवा उद्यमी

अभिषेक का मानना है जिस प्रकार एक MBA या IT क्षेत्र से जुड़े व्यक्ति को सम्मान की नजरों से देखा जाता है वैसे यदि कोई युवा कृषि से जुड़ा हुआ हो और खेती करता हो तो उसे उतने सम्मान के नज़र से नहीं देखा जाता इसकी वजह से भी कहीं न कहीं युवाओं का मन भी कृषि को छोड़ने व न जाने का करता है और वह शहरों की तरफ पलायन करते हैं और नौकरी करने के लिए अपना घर व खेती छोड़ देते हैं । पिछले 20 वर्षों से करीब करीब 3000 किसान प्रतिवर्ष खेती छोड़ रहे है और ये संख्या बढती जा रही है, जिसे हमें रोकना होगा क्यूंकि आने वाले भविष्य के लिए खतरनाक मोड़ होगा जिसे रोक पाना बहुत मुश्किल होगा ।

Kisaan Saarhti Chaupal
जैविक खेती के लिए किसान सारथी द्वारा आयोजित चौपाल में किसानों के साथ अभिषेक

किसान सारथी के संस्थापक अभिषेक न सिर्फ पूरा प्रयास भी है बल्कि एक जिद भी है कि हम सभी को एक होकर इस कार्य को करना ही होगा, ये कुछ लोगों के करने से नहीं होगा । जैसे सिक्किम एक सम्पूर्ण आर्गेनिक राज्य बन चूका है वैसे ही उनके उत्तरप्रदेश, बिहार, मध्यप्रदेश व अन्य वह सभी राज्य जहाँ केमिकल फार्मिंग होती है वहां जैविक खेती करनी है और किसानो को इस तरफ प्रेरित करना है, जिससे हम सभी को रसायन मुक्त भोजन प्राप्त हो सके ।

यह भी पढ़े : अपनी जॉब छोड़कर किसान आत्महत्या से पीड़ित बच्चों को शिक्षा दिलाने वाले शख्स की कहानी

इस कार्य के लिए उन्हें व उनके स्टार्टअप “किसान सारथी” को हाल ही में पटना, बिहार में बिहार एक्सेलेंसी/लीडरशिप अवार्ड से सम्मानित किया गया । अभिषेक का मानना है कि यह सम्मान उनका नहीं बल्कि उन समस्त किसानों का है जो दिन रात हमारे लिए मेहनत कर रहे हैं और उन सभी युवाओं का जो कृषि में अपना भविष्य उज्जवल करना चाहते है । इससे हमारा मनोबल पहले से दुगना हो गया है जो कि दुगनी ऊर्जा के साथ करने के लिए मनोबल बढ़ा है ।

किसान सारथी एक ऐसा आधुनिक माध्यम जो किसान और समाज के बीच एक सेतु का कार्य करेगा । किसान सारथी के माध्यम से कोई भी किसान आसानी से अपनी फसल का उचित दाम हासिल कर सकेगा, देश का कोई भी किसान अपनी फसल को सीधे बाज़ार मैं ग्राहक तक पंहुचा सकेगा ।  हम प्रतिबद्ध हैं किसानो की हर संभव मदद करने के लिए, ताकि कोई भी किसान आत्महत्या न करे, किसी भी किसान के परिवार को भूखा न सोना पड़े, किसी भी किसान के बच्चे अशिक्षित न रह जाएँ ।

Be Positive अभिषेक और “किसान सारथी(Kisaan Sarthi)” के जज्बे को सलाम करता है और उनके उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाए देता है ।

Comments

comments

1 COMMENT

  1. I liked it too much . I am very passionate crusader to promote ORGANIC FARMING.
    How can I be more active by getting part of your crusade. Please respond.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.