देश में प्राइवेट अस्पताल एवं संस्थानों में MRI एवं सीटी स्कैन जैसी जाँच के लिए बड़ी रकम वसूली जाती हैं. पुरे देश में यह फीस 5000 से शुरू होकर 10,000 रुपये तक होती हैं. सरकारी हॉस्पिटल में दर भले ही कम हो लेकिन मरीजों की भीड़ के कारण लोग इन सुविधाओं से वंचित रह जाते हैं. देश की राजधानी दिल्ली में इसी समस्या को दूर करने के लिए एक गुरुद्वारा आगे आया हैं जो एक्सरे, सीटी स्कैन और एमआरआई जैसी जांचे केवल 50 रुपए में करवा पाएंगे.

गुरुद्वारे के आसपास 5 बड़े अस्पताल हैं, जिनमें गंगाराम, एलएनजेपी, जीबी पंत और आरएमएल शामिल हैं. इन अस्पतालों में पूरे देश से हजारों मरीज हर रोज इलाज कराने के लिए आते हैं. सस्ते इलाज और मुफ्त जांच के लिए ये मरीज सरकारी अस्पतालों की भीड़ में महीनों तक अपनी बारी की प्रतीक्षा करते हैं. लोकनायक अस्पताल में तो एमआरआई जांच के लिए 2 साल की वेटिंग चल रही है.

Gurudwara bangla sahib new delhi
बंगला साहिब गुरुद्वारा – नयी दिल्ली

नयी दिल्ली के बंगला साहिब गुरूद्वारे में MRI और CT स्कैन मशीन लगाने का प्रस्ताव आया है और इस पर काम चल रहा है. दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीपीसी) के अध्‍यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने बताया कि नवंबर में आने वाले गुरुपर्व के मौके पर यह सुविधाएं शुरू करने की कोशिश की जाएंगी.

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ही बंगला साहिब गुरूद्वारे की डिस्पेंसरी को चलाती है और इसकी फंडिंग भी वहीँ से आती है. डिस्पेंसरी ने MRI और CT स्कैन मशीन की मांग को DSGMC के सामने रखा और मैनेजमेंट द्वारा भरोसा दिलाया गया कि नवंबर 2019 तक इन दोनों मशीनों की व्यवस्था की जाएगी.

गुरुद्वारा बंगला साहिब में मरीज के साथ आने वाले लोगों के लिए गुरुद्वारे में ठहरने के लिए भी सराय में जगह दी जाएगी. ऐसे में उन्हें यहां रहने की भी परेशानी नहीं उठानी होगी. इसके अलावा गुरुद्वारा में दोपहर और शाम को लंगर भी चलता है, जिससे मरीजों को खाने-ठहरने की समस्या हल हो जाएगी.

ct and mri scan
MRI एवं सीटी स्कैन

आपको बता दें कि गुरुद्वारा परिसर अभी एक पॉलीक्लीनिक है, जहां दांतों और आंखों के इलाज के साथ-साथ ईसीजी आदि की भी सुविधा है. यहां दिन में 2 बार स्पेशलिस्ट डॉक्टरों की टीम आती है.

बी पॉजिटिव इंडिया, बंगला साहिब गुरुद्वारा की अभिनव पहल का स्वागत करता हैं और उम्मीद करता हैं कि इस कदम से मरीजों एवं उनके परिजनों को जरूर रहत मिलेगी.

[ मीडिया रिपोर्ट्स पर आधारित ]

Comments

comments