किसी भी व्यक्ति के लिए एक घर या बिल्डिंग का जीवन में महत्वपूर्ण हिस्सा रहता है क्योंकि वह पर बिताया हुआ हर पल यादों के रूप में जीवन पर याद रहता है । चाहे वो अपना घर हो या स्कूल बिल्डिंग हो या कॉलेज बिल्डिंग हो या अपनी कंपनी का पहला ऑफिस । हमेशा इनकी जीवन में खास जगह होती है । ऐसा ही कुछ इस घर के बारे में है , जहाँ से आज $20 Billion (एक लाख बीस हज़ार करोड़) की कंपनी बन चुकी है । 11 वर्ष पहले शुरू हुआ एक सफर आज भारतीय स्टार्टअप का पोस्टर बन चूका है ।

फ्लिपकार्ट की शुरुआत एक फ्लैट से हुई जो आज कंपनी के 29000 कर्मचारियों एवं वर्ल्ड क्लास टेक पार्क में 3 लाख स्क्वायर फ़ीट के कॉर्पोरेट ऑफिस में तब्दील हो चूका है । फ्लिपकार्ट के फाउंडर सचिन एवं बिन्नी बंसल के बारे में कई बार अख़बार एवं इंटरनेट पर खबरे आ चुकी है लेकिन आज हम उस जगह की कहानी सुना रहे है जहाँ से फ्लिपकर्ट चालू हुई थी । यह जगह है बेंगलुरु के कोरमंगला क्षेत्र में 447-C, 12TH MAIN, KORAMANGALA

Flipkart Office Main Road
फ्लिपकार्ट के पहले ऑफिस की गली | Image Credits : Flipkart Stories

भारतीय ई-कॉमर्स इंडस्ट्री अभी बदलाव के दौर से गुजर रही है । फ्लिपकार्ट एवं अमेज़न मार्केट में अपने शेयर के लिए कड़ा संघर्ष कर रहे है लेकिन इसी बीच अमेरिका की एक ओर कंपनी वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को खरीदने की कोशिश में लग कर इस प्रतियोगिता को बहुत रोमांचक बना दिया है । वालमार्ट ने फ्लिपकार्ट को खरीदने के लिए लगभग 90,000 करोड़ रुपये की पेशकश की है । 11 वर्ष पूर्व एक मकान से शुरू हुई इस कंपनी की आज लगभग 1,30,000 करोड़ की मार्केट वैल्यू हो चुकी है ।

2007 में अमेज़ॉन में काम कर रहे सचिन एवं बिन्नी बंसल ने एक ई-कॉमर्स ऑनलाइन स्टोर खोलने का फैसला किया। फ्लिपकार्ट की शुरुआत एक ऑनलाइन बुक स्टोर के रूप में हुई थी और आज फ्लिपकार्ट के पास लगभग 1 लाख से ज्यादा प्रोडक्ट्स है । बेंगलुरु के कोरमंगला क्षेत्र में आई आई टी दिल्ली से पासआउट और अमेज़ॉन में काम कर रहे दो नवयुवक एक घर की तलाश कर रहे थे , जहाँ पर वो अपनी कंपनी का ऑफिस बना सके ।

Fatahullah_Owner_of_House
फ्लिपकार्ट के पहले ऑफिस के मकान मालिक S M फतुल्लाह | Image Credits : Flipkart Stories

उनकी मुलाकात एक चार मंजिला ईमारत के मालिक S M फतहउल्ला जो कि एक सरकारी सेवानिवृत अधिकारी थे । जाँच-परख के बाद मकान-मालिक यह घर सचिन एवं बिन्नी बंसल को देने के लिए राज़ी हो जाते है । इस मकान के पहले मंजिल पर स्तिथ फ्लैट से शुरू होती है फ्लिपकार्ट की कहानी और यह घर फ्लिपकार्ट की यात्रा में एक मील का पत्थर साबित होता है । इस घर का पता है 447-C, 12TH MAIN, KORAMANGALA । जब भी फ्लिपकार्ट की सफलता की कहानी सुनाई जाती है , इस घर का जरूर जिक्र किया जायेगा ।

घर किराये लेने के बाद सचिन एवं बिन्नी बंसल ने फ्लिपकार्ट का काम जोर-शोर से शुरू कर दिया है । शुरुआती दिनों में फ्लिपकार्ट के बारे में सारी प्लानिंग एवं रणनीतियाँ इसी घर के हॉल में विचार-विमर्श के लिए रखी जाती थी । फ्लिपकार्ट के हर टेक्निकल से लेकर मैनेजमेंट लेवल तक के हर निर्णय में यह घर साक्षी रहा है । कोडिंग से लेकर वेंडर से मुलाकातों तक इस घर में ही हुआ है ।

OldOffice_Workstation
फ्लिपकार्ट के पहले ऑफिस में काम करते कर्मचारी | Image Credits : Flipkart Stories

इस घर की बालकनी में फ्रेश हवा खाने के लिए अक्सर फ्लिपकार्ट के कर्मचारी खड़े हो जाते थे जो कि सिगरेट के धुए के छल्लों के साथ ही कई महत्वपूर्ण निर्णयों की गवाह रही है । फ्लिपकार्ट में शुरुआत में बीन बैग्स और नार्मल टेबल-कुर्सी का इस्तेमाल वर्कस्टेशन के लिए किया गया । फ्लिपकार्ट का सफर अब तक बहुत रोमांचक रहा है और कंपनी में निवेश आने के बाद उन्हें बड़े ऑफिस की जरूरत पड़ी लेकिन यह घर हमेशा फ्लिपकार्ट ने अपने साथ रखा । जब सारे लोग नए ऑफिस में शिफ्ट हो गए तो इस घर का प्रयोग नवाचार तकनीक के साथ ही हैकिंग इवेंट्स के लिए किया जाने लगा ।

2015 एवं 2016 में फ्लिपकार्ट ने खूब संघर्ष किया क्योंकि अमेज़न के साथ उसे कड़ा संघर्ष करना पड़ा लेकिन नवाचार के साथ ही भारतीय ग्राहकों की नब्ज से वाकिफ फ्लिपकार्ट ने अपनी टॉप पोजीशन कभी नहीं खोई । इसके बाद जैसे-जैसे प्रतियोगिता बढ़ती गई तो निवेश के साथ ही मिंत्रा एवं जबोंग जैसी ई-कॉमर्स का भी अधिग्रहण किया । इसी के साथ निवेशकों के सकारात्मक सहयोग से फ्लिपकार्ट आज भारत की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी बन चुकी है ।

OldOffice_Terrace
फ्लिपकार्ट के पहले ऑफिस की छत पर लगी मूर्ति | Image Credits : Flipkart Stories

447-C, 12TH MAIN, KORAMANGALA भारतीय स्टार्टअप एवं ई-कॉमर्स के इतिहास में अपना नाम दर्ज करवा चूका है । आज भले ही फ्लिपकार्ट इतनी बड़ी हो गयी कि अमेरिकी कंपनी वालमार्ट उसको खरीदने के लिए 90,000 करोड़ खर्च कर रही लेकिन एक फ्लैट से शुरुआत हमेशा से ही याद रखी जाएगी ।

Comments

comments